पाकिस्तान:'अपहृत' सामाजिक कार्यकर्ताओं को लेकर विरोध प्रदर्शन

इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान में पिछले हफ्ते 'अग़वा' किए गए चार सामाजिक कार्यकर्ताओं का पता लगाने की माँग को लेकर हज़ारों लोगों ने सड़कों पर उतरकर विरोध किया है.

इन लोगों ने आशंका जताई कि इन कार्यकर्ताओं को सुरक्षा बलों ने गुप्त तौर पर हिरासत में रखा हुआ है.

इन कार्यकर्ताओं को लेकर अभी तक किसी चरमपंथी समू​ह ने कोर्इ् ज़िम्मेदारी नहीं ली है. उनके पक्ष में पाकिस्तान के कई प्रमुख शहरों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

यह चारों कार्यकर्ता सोशल मीडिया में सेना और चरमपंथ की आलोचना कर रहे थे.

पाकिस्तान की संसद ने इन चारों के भविष्य पर चिंता जताई.

पाकिस्तान सरकार के अनुसार वह इन चार लोगों में से एक के लापता होने की जाँच कर रही है.

यह मामला पाकिस्तान के मशहूर कवि और प्राध्यापक सलमान हैदर के 'अग़वा' होने से जुड़ा है.

सलमान बलूचिस्तान में लगातार गायब हो रहे लोगों के पक्ष में कैंपेन चला रहे थे.

कश्मीर के हल के लिए पाकिस्तान से बात ज़रूरी: यशवंत

पाकिस्तान: 150 से ज़्यादा इस्लामिक कार्यकर्ता गिरफ़्तार

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
फ़ौजी अदालतें बंद

सेनेटर अफरासियाब खटक के मुताबिक यह सरकार की दादागिरी है और जिन लोगों ने भी इन घटनाओं को अंज़ाम दिया है उन्होंने कानून तोड़ा है. खटक पाकिस्तान के स्वतंत्र मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष रह चुके हैं.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK

खटक ने इस्लामाबाद में प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा,"यह देश किसी जनरल,नौकरशाह,पूंजीपति या सामंत का नहीं है, यह देश इस देश की आम जनता का है और हम ऐसी घटनाओं पर चुप नहीं बैठेंगे.'

हाल ही में ग़ायब हुए कार्यकताओं के मामले पर सरकार पर अनदेखी के भी आरोप लग रहे हैं.

पाकिस्तान में पिछले शुक्रवार को सलमान हैदर के अगवा होने से पहले दो ब्लॉग लेखकों वकास गोराया और असीम सईद को लाहौर से अग़वा कर लिया गया था.

इसके अलावा पोलियोग्रस्त ब्लॉगर अहमद रज़ा नसीर को उनकी लाहौर में शेखपुरा स्थित दुकान से अग़वा कर लिया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)