हमास ने 'सुंदरियों' के ज़रिए की जासूसी

इमेज कॉपीरइट IDF

इसराइल की सेना ने दावा किया है कि चरमपंथी गुट हमास ने जासूसी करने के लिए उनके सैनिकों के फ़ोन हैक किए.

सेना के एक अधिकारी ने कहा है कि हमास के चरमपंथियों ने सोशल मीडिया पर महिलाओं की फ़ोटो डालकर उनसे दोस्ती करने की कोशिश, सैनिकों के मोबाइल फ़ोन हैक किए और फिर उसका इस्तेमाल जासूसी के लिए किया.

हमास ने पकड़ा 'इसराइली जासूस' डॉल्फ़िन

ग़ज़ा: हमास और इसराइल को क्या मिला?

इमेज कॉपीरइट IDF

एक अधिकारी ने रिपोर्टरों को बताया कि फ़लस्तीन समूह के सदस्य ऑनलाइन रहे सैनिकों को पता लगा कर उनसे नकली पहचान बनाकर दोस्ती करते है.

इस अधिकारी का नाम नहीं बताया गया है लेकिन इस अधिकारी के मुताबिक ये चरमपंथी असली महिलाओं की तस्वीरें इस्तेमाल करते थे और इन सभी महिलाओं की तस्वीरें और निजी जानकारियां सोशल मीडिया प्रोफाइल से चोरी की गई थी.

इसमें कई दर्जन सैनिकों को एक एप्लीकेशन को इन्स्टॉल करने के लिए मनाया गया ताकि उनके फ़ोन कैमरा और माइक्रोफ़ोन पर नियंत्रण पाया जा सके.

अधिकारी का कहना था कि इसके बावजूद हमास अभी तक कोई बड़ी गुप्त जानकारी नहीं हासिल कर पाया है.

उन्होंने बताया कि इनमें से ज़्यादातर सैनिक छोटे दर्जे के सैनिक थे और ये चरमपंथी हमास के प्रभुत्व वाले गज़ा पट्टी में इसराइल की सेना और हथियारों के बारे में जानकारी लेना चाहते थे.

हालांकि हमास ने अभी तक इस बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)