इस मां ने अपने ही बच्चों को क्यों मार डाला?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ऑस्ट्रेलिया में अपने तीन बच्चों की हत्या करने की बात एक मां ने स्वीकार कर ली है.

37 साल की एकॉन गोड के ऊपर साल 2015 में मेलबॉर्न में अपने बच्चों की हत्या का आरोप लगा था.

एक साल के बॉल और चार साल के दो जुड़वा बच्चों हैंगर और मैडिट की मौत कार के झील में डूबने की वजह से हुई थी.

जिसे मां समझती रही, वो उसकी किडनैपर निकली

वो मां जिसे बच्ची की लाश कुत्ते का पीछा करके मिली

छह साल का एक दूसरा बच्चा भी उस वक्त कार में मौजूद था, लेकिन वो बच गया था.

सुप्रीम कोर्ट ने गोड को एक नवजात और दो बच्चों की हत्या व एक हत्या की कोशिश का दोषी पाया है.

इमेज कॉपीरइट ABC

गोड साल 2008 में दक्षिण सूडान से ऑस्ट्रेलिया गई थीं.

उन्होंने इंटरप्रेटर की मदद से अदालत में अपनी दलील पेश की.

'मां नहीं रही, अब कभी कानपुर नहीं जाऊंगा'

'मां घर वापस ज़रूर आएगी'

मारे गए बच्चों के पिता जोसफ मैनयांग ने पिछले साल हुई सुनवाई में कहा था कि झील में कार जाने से पहले गोड ने चक्कर आने की बात कही थी.

उन्होंने गोड को 'एक प्यार करने वाली मां' बतलाया था जो अपने बच्चों को जान-बूझकर नुकसान नहीं पहुंचा सकती है.

हालांकि एक गवाह ने पुलिस को बताया था कि गोड ने अपने तीन बच्चों को मारने की बात कही थी.

इमेज कॉपीरइट EPA

जब झील में कार डूब रही थी तो आस-पास के लोग बच्चों को बचाने की भरपूर कोशिश कर रहे थे.

द एज अख़बार के मुताबिक़ एक गवाह एलेक्जैंडर कोलसन-इंग ने बताया, "मैंने उन्हें जान-बूझकर कार को झील की दिशा में ले जाते देखा था."

गोड को 31 जनवरी को होने वाली अगली सुनवाई तक हिरासत में रखा जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)