एमएच-370: जांच बंद होने से लापता यात्रियों के परिजन खफ़ा

मलेशिया इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पीड़ित परिवार के लोग इस फ़ैसले के नाख़ुश हैं.

मार्च 2014 में लापता हुए मलेशियाई एयरलाइन्स के विमान एमएच-370 की जांच प्रक्रिया निरस्त किए जाने को इस विमान में सवार 239 यात्रियों के परिजनों ने गैर-जिम्मेदाराना बताया है.

तीन साल पहले यह विमान 239 यात्रियों के साथ ग़ायब हो गया था, जिसका आज तक कोई सुराग नहीं मिल पाया है.

इसकी जांच के लिए जो टीम बनाई गई थी, उसे मंगलवार को निरस्त कर दिया गया.

एक साझा बयान में ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया और चीन ने कहा कि एक नाकाम कोशिश के बाद इस जांच को निलंबित कर दिया गया है.

हिन्द महासागर में एक लाख 20 हज़ार वर्ग किलोमीटर में सर्च अभियान चलाने के बाद भी विमान का कोई सुराग नहीं मिला. इसके बाद ही जांच को ख़त्म करने का फ़ैसला लिया गया.

इमेज कॉपीरइट BLAINE ALAN GIBSON
Image caption शायद विमान के अवशेष मेडागास्कर से काफी दूर मिले हैं

तीनों देशों ने इसे निराशाजनक बताया है. इस हादसे से जुड़े परिवार के पीड़ितों ने जांच ख़त्म करने के निर्णय को ग़ैरजिम्मेदार बताया है.

यात्रियों के परिजनों ने इस फ़ैसले पर पुनर्विचार करने का आग्रह भी किया है.

2014 में इस विमान ने कुआलालंपुर से बीजिंग की उड़ान भरी थी और रास्ते में ही ग़ायब हो गई थी.

जांच के दौरान प्राप्त हुए 20 में से सात अवशेषों के बारे में कहा जा रहा था कि ये बोइंग-777 के हैं.

2016 की एक रिपोर्ट में हिन्द महासागर में इस प्लेन के गिरने की आशंका जताई जा रही थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार