देखे हैं ऐेसे सजे-धजे कबूतर

इमेज कॉपीरइट Umit Bektas / Reuters

तुर्की के दक्षिण-पूर्वी शहर शानलेउर्फ़ा में बीते दिनों सबसे सुंदर कबूतर चुनने की राष्ट्रीय प्रतियोगिता हुई.

सीरिया से सटे इलाक़ों में कबूतर पालने और उनकी नई प्रजातियां पैदा करने का शौक सदियों पुराना है. यहां बक़ायदा कबूतरों की बोली लगती है.

इमेज कॉपीरइट Umit Bektas / Reuters

शौक़ीन लोग कबूतरों को सजा कर रखते हैं. कुछ लोग उनके पैरों में घुंघरू और रंगीन धागे बांध देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Umit Bektas / Reuters

कुछ लोग तो कबूतरों के परों में चांदी के गहने तक लगा देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Umit Bektas / Reuters

अबाली नाम के इस कबूतर की क़ीमत 1,000 तुर्की रियाल लगाई गई थी.

इमेज कॉपीरइट Umit Bektas / Reuters

इस्पायर नाम का यह कबूतर 1,500 तुर्की रियाल में बिका.

इमेज कॉपीरइट Umit Bektas / Reuters

उज़्बेक के बहुमूल्य कबूतरों में एक की क़ीमत 320 डॉलर लगाई गई.

इमेज कॉपीरइट Umit Bektas / Reuters

कबूतर के बाड़ों की पुख़्ता सुरक्षा की व्यवस्था की जाती है. वहां अलार्म और सीसीटीवी कैमरे तक लगाए जाते हैं ताकि पूरी निगरानी रखी जा सके.

इमेज कॉपीरइट Umit Bektas / Reuters

नीलामी करने वाले इमाम दिलदास का दावा है कि एक बार तो एक जोड़ा कबूतर 75,000 डॉलर में बिका था.

वे कहते हैं, "यह ऐसा शौक़ है, ऐसा जुनून है, जिसे आप छोड़ नहीं सकते."

उन्होंने कहा कि एक बार तो उन्होंने अपना फ़्रिज़ और पत्नी के गहने बेचकर एक जोड़ा कबूतर ख़रीदा था.

इमेज कॉपीरइट Umit Bektas / Reuters

इस्माइल उज़्बेक कबूतर पालने के शौकीन हैं. उन्होंने 200 कबूतर पाल रखे हैं.

कुर्दिश छापामारों और सरकार की सेना के बीच हालिया झड़पों के बावजूद इस बार भी यहां कबूतरों की नीलामी हुई और ऊंची क़ीमतें भी लगाई गईं.

इमेज कॉपीरइट Umit Bektas / Reuters

इस इलाक़े से सीरिया की सीमा सिर्फ़ 30 मील है. ऐसे में कई कबूतर सीमा पार कर यहां चले आए और लौट नहीं सके.

लिहाज़ा, कबूतरों की तादाद बढ़ गई और उनकी क़ीमतें गिर गईं. लेकिन ज्योंही लड़ाई तेज़ हुई, क़ीमतें एक बार फिर बढ़ीं.

इमाम दिलदास 2,750 डॉलर की क़ीमत तक के कबूतर बेच चुके हैं. वे नीलामी में मिली क़ीमत का 10 फ़ीसद कमीशन लेते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)