क्या बंटे हुए देश को जोड़ पाएंगे ट्रंप?

इमेज कॉपीरइट EPA

वाशिंगटन अपने 45वें राष्ट्रपति डोनल्ड जे ट्रंप की ताजपोशी के लिए सज चुका है.

उनके उद्घाटन समारोह के हर लम्हे की रिहर्सल की गई है, यहां तक की डोनल्ड ट्रंप की जगह किसी और को खड़ा करके शपथ ग्रहण और दूसरे पहलुओं को भी पूरी तरह से जांच परख लिया गया है.

मुख्य समारोह तो कैपिटल हिल पर होगा लेकिन उसके पहले लिंकन मेमोरियल पर रंगारंग शो हो रहा है जिसमें बॉलीवुड और हॉलीवुड दोनों ही की झलक होगी.

देश के कई हिस्सों से स्कूली बैंड पहुंच रहे हैं परेड में भाग लेने. लेकिन लाख पूछने पर भी इनमें से ट्रंप की राजनीति पर बात करने को कोई तैयार नहीं होता.

पढ़ें- इस कीड़े की हेयरस्टाइल है ट्रंप जैसी

देखें- डोनल्ड ट्रंप से उम्मीदें

ट्रंप के लिए व्हाइट हाउस में क्या है ख़ास इंतज़ाम?

क्योंकि जहां एक तरफ़ ये तैयारियां हो रही हैं, लाखों लोगों के आने की उम्मीद की जा रही है वहीं दूसरी तरफ़ हज़ारों ऐसे भी हैं जो डोनल्ड ट्रंप के ख़िलाफ़ खड़े नज़र आएंगे.

इमेज कॉपीरइट EPA

शहर में कई तरह के विरोध प्रदर्शनों की तैयारी चल रही है और कई गुट अपने सदस्यों को अहिंसक प्रदर्शन करने और पुलिस के साथ किस तरह से पेश आएँ उसके लिए प्रशिक्षण भी दे रहे हैं.

कांग्रेस के कई डेमौक्रैट सदस्यों ने उद्घाटन समारोह को बॉयकॉट करने का एलान कर दिया है.

ज़्यादातार नामी-गिरामी सितारों ने उनके समारोह में भाग लेने से इंकार कर दिया है.

डोनल्ड ट्रंप उद्घाटन समारोह के लिए अपना भाषण लिखने में जुटे हुए हैं और उनके एक प्रवक्ता का कहना है कि लगभग 20 मिनट के इस भाषण पर उन्होंने काफ़ी मेहनत की है.

इमेज कॉपीरइट EPA

उनके प्रवक्ता शॉन स्पाइसर का कहना था, "ये भाषण उनके लिए निजी रूप से काफ़ी अहम है. इसमें वो अपनी आनेवाली नीतियों के साथ-साथ आज के अमरीका पर उनकी क्या सोच है इसपर भी बात करेंगे."

बहुत लोगों की नज़र इस बात पर होगी कि ट्रंप अपने भाषण में इस वक़्त बुरी तरह से बंटे हुए देश को एकजुट करने की कोशिश करते हैं या फिर अपने चिर-परिचित अंदाज़ में उसी तरह की बातें दोहराते हैं जिसने उन्हें यहां तक पहुंचाया है.

ट्रंप ने फ़ॉक्स न्यूज़ को दिए अपने इंटरव्यू में कहा है कि अपने भाषण की शुरूआत सबका धन्यवाद देकर करेंगे और बराक और मिशेल ओबामा को भी उनकी उदारता के लिए सराहेंगे.

इमेज कॉपीरइट EPA

ट्रंप ने अपनी जीत के बाद अमरीका को साथ लेकर चलने की बात कही थी लेकिन उसके बाद अपने ट्विट्स में उन्होंने हिलेरी क्लिंटन समेत अपने सभी आलोचकों पर हमले किए हैं.

जानकारो का कहना है कि ये नीति चुनाव में तो कारगर रही है लेकिन हुकूमत चलाने में शायद ही कारगर रहे.

मीडिया के साथ उनके संबंध बेहद तनावपूर्ण हैं, रूस के साथ उनके ताल्लुकात पर सवाल उठ रहे हैं, उनकी व्यापार नीति क्या होगी उस पर लोगों को भरोसा नहीं है और अपने निजी बिज़नेस को व्हाइट हाउस से सही मायने में अलग रख पाएंगे उस पर भी ख़ासा विवाद है.

लेकिन इन सबसे बड़ी चुनौती उनके सामने देश को ये यकीन दिलाने की होगी कि वो सिर्फ़ अपने समर्थकों के नहीं पूरे देश के राष्ट्रपति होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे