भारतीय सैनिक चंदू चव्हाण रिहा, पहुंचे भारत

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
चंदू चव्हाण के गांव में जश्न

भारतीय सैनिक चंदू चव्हाण को भारत को सौंपने के बाद उनके गांव में जश्न का माहौल है.

स्थानीय पत्रकार संजय तिवारी ने यह जानकारी दी है.

पाकिस्तान पर भारत के कथित सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से ही चंदू चव्हाण 'लापता' बताए जा रहे थे.

तिवारी ने बताया कि चंदू के गांव के लोग लोग आतिशबाजी कर रहे हैं, मिठाइयां बांट रहे हैं और एक दूसरे से गले मिल रहे हैं.

कौन है एलओसी पार करने वाला भारतीय सैनिक

भारतीय सीमा पर बढ़ी चौकसी, एडवायज़री जारी

आख़िर क्या हैं सर्जिकल स्ट्राइक?

इमेज कॉपीरइट Neelesh
Image caption चंदू चव्हाण के नाना ने गांव वालों को मिठाइयां खिलाईं.

उनके नाना सीडी पाटिल बेहद खुश हैं. उन्होंने कहा कि गांव का बेटा वापस आ रहा है, इससे बड़ी कोई बात नहीं हो सकती.

उन्होंने इसके लिए सरकार को धन्यवाद कहा है. पाटिल ने कहा कि प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री और रक्षा मंत्री ने उन्हें चंदू की रिहाई का भरोसा दिया था और अब चंदू वापस आ रहे हैं.

उन्होंने यह भी कहा कि चंदू की नानी की मौत के बाद उनकी अस्थियां नदी में विर्सजित नहीं की गई हैं. नानी की इच्छा थी कि यह काम चंदू ही करें. अब उनकी यह इच्छा पूरी हो सकेगी.

चंदू के बड़े भाई भूषण ने बीबीसी से कहा, "माता पिता नहीं होने से नाना-नानी ने हम दोनों भाइयों और बहन का पालन-पोषण किया."

इमेज कॉपीरइट ISPR

रक्षा राज्यमंत्री डॉक्टर सुभाष भामरे से बात होने के बाद उन्हें तसल्ली हुई कि पाकिस्तान ने चंदू को रिहा कर दिया है. वे जल्द ही गांव लौट आएंगे.

भूषण ने अपने गाँव वालों, तमाम देशवासी, रक्षा राज्य मंत्री डॉ भामरे, भारत सरकार और महाराष्ट्र सरकार को शुक्रिया अदा किया है.

चव्हाण भारत प्रशासित कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर तैनात थे. बयान में कहा गया है कि उन्हें वाघा सीमा पर भारतीय अधिकारियों को सौंपा जाएगा.

इमेज कॉपीरइट NEELESH
Image caption चंदू चव्हाण के रिश्तेदार उनकी राह देख रहे हैं.

पाकिस्तान का दावा है कि चंदू चव्हाण ने 29 सितंबर 2016 को जानबूझकर नियंत्रण रेखा पार की थी और बाद में पाकिस्तान सेना के सामने आत्मसमर्पण कर दिया था.

लेकिन, भारत का कहना है कि चंदू ग़लती से नियंत्रण रेखा के पार पाकिस्तानी क़ब्ज़े वाले इलाक़े में पहुँच गए थे.

चंदू चव्हाण के नियंत्रण रेखा के पार जाने की ख़बर मीडिया में भारत के कथित सर्जिकल स्ट्राइक के दावे के एक दिन बाद आई थी.

इमेज कॉपीरइट NEELESH
Image caption चंदू चव्हाण के गांव के लोगों ने नारे लगा कर और मिठाइयां बांट कर खुशियां मनाईं.

चंदू 37 राष्ट्रीय राइफल्स के जवान हैं और महाराष्ट्र के धुले के रहने वाले हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे