मेक्सिको सीमा पर बनाएँगे दीवारः ट्रंप

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अमरीका-मेक्सिको सीमा पर पहले से ही कुछ हिस्सों में दीवार बनी हुई है

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप देश की सुरक्षा और आप्रवासियों से जुड़े कई बड़े फ़ैसलों कर सकते हैं जिनमें मेक्सिको से लगी सीमा पर दीवार बनाने का फ़ैसला भी शामिल होगा जो उनके बड़े चुनावी वादों में शामिल था.

ट्रंप ने ट्वीट किया है,"कल राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक बड़ा दिन है. बाक़ी बातों के अलावा, हम दीवार भी बनाएँगे."

ट्रंप उस दीवार की बात कर रहे हैं जिसका उन्होंने अपने चुनाव अभियान के दौरान वादा किया था और जिसे लेकर उनकी पड़ोसी देश मेक्सिको से ठन गई थी.

उन्होंने कहा था कि आप्रवासियों को रोकने के लिए मेक्सिको से लगी अमरीकी सीमा पर दो हज़ार मील लंबी दीवार बनाई जाएगी और इसपर जो आठ अरब डॉलर का ख़र्च आएगा वो मेक्सिको से लिया जाएगा.

'दीवार' का ख़र्च मेक्सिको ही देगा: ट्रंप

अमरीका-मेक्सिको: पहले से है एक दीवार...

इमेज कॉपीरइट Reuters

और मेक्सिको ने कहा था कि वे इस दीवार के लिए एक पाई नहीं देंगे.

बहरहाल ट्रंप ने अब व्हाइट हाउस में आते ही दीवार बनाने की बात कर दी है.

समझा जाता है कि वे आप्रवासियों पर लगाम लगाने के लिए और भी कई बड़े फ़ैसले कर सकते हैं, जिनमें मध्यपूर्व और अफ़्रीका के सात मुस्लिम देशों के लोगों के लिए वीज़ा नियमों को और कड़े करने का फ़ैसला हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अमरीका-मेक्सिको सीमा पर पहले से ही कुछ हिस्सों में दीवार बनी हुई है

हालाँकि राष्ट्रीय सुरक्षा पर ट्रंप के एक सलाहकार रहे कंज़र्वेटिव थिंकटैंक हेरिटेज फ़ाउंडेशन के जेम्स काराफ़ेनो का कहना है कि इन क़दमों को मुस्लिम विरोधी नहीं समझा जाना चाहिए.

उन्होंने कहा,"अगर बात सुरक्षा की हो तो इसका आधार किसी व्यक्ति का धर्म नहीं होता. इसका आधार ये होता है कि वो लड़ाई वाले इलाक़े हैं और वहाँ से सुरक्षा को लेकर चिन्ताएँ हो सकती हैं."

एक और विवादास्पद बयान

इस बीच डोनल्ड ट्रंप के एक और बयान को लेकर हंगामा खड़ा हो गया है जिसमें उन्होंने कहा है कि वे राष्ट्रपति चुनाव में हुई धांधली की एक बड़ी जाँच करवाएँगे.

ट्रंप ने दावा किया है कि हिलेरी को मिले कम-से-कम 50 लाख मत जाली थे जिनकी जाँच करवाई जाएगी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption डोनल्ड ट्रंप ने नतीजों के बाद नवंबर में ही फ़र्ज़ी मतदान की बात कही थी

उनके इस बयान की ख़ुद उनकी ही रिपब्लिकन पार्टी के कई बड़े नेताओं ने आलोचना की है.

रिपब्लिकन सेनेटर लिंडसी ग्राहम ने कहा है कि एक राष्ट्रपति को बग़ैर सबूत के ऐसा कहना शोभा नहीं देता.

डेमोक्रेट नेताओं ने भी इसकी आलोचना की है.

डेमोक्रेट सेनेटर बर्नी सैंडर्स ने कहा,"ये बिल्कुल ही बकवास बयान है. मगर मुझे डर इस बात का है कि वे जब 30 से 50 लाख लोगों के फ़र्ज़ी मत डालने की बात करते हैं तो वो इस देश में सारे रिपब्लिकन गवर्नरों को ये संदेश दे रहे हैं कि वे मतदाताओं के पीछे पड़ें और उनका दमन करें."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption हिलेरी को वोट ट्रंप से ज़्यादा मिले मगर अहम राज्यों में जीत की वजह से ट्रंप विजेता बने

डोनल्ड ट्रंप ने पहली बार चुनाव में धाँधली का दावा नवंबर में नतीजे आने के बाद किया था.

दरअसल चुनाव में ट्रंप को हिलेरी क्लिंटन से लगभग 30 लाख कम वोट मिले थे मगर स्विंग स्टेट्स कहे जानेवाले महत्वपूर्ण राज्यों में आगे रहने के कारण ट्रंप विजयी रहे थे.

इसी हफ़्ते रिपब्लिकन पार्टी के बड़े नेताओं ने अपनी एक बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा की थी और ट्रंप से आग्रह किया था कि वे इस विषय को आगे ना ले जाएँ.

मगर ट्रंप का इरादा शायद कुछ और है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)