हर दसवीं महिला के लिए तकलीफ़देह है सेक्स

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ब्रिटेन में हुए एक अध्ययन के मुताबिक हर 10 में एक ब्रिटिश महिला के लिए सेक्स दर्दनाक होता है.

इस सर्वे में 16 से 74 साल की करीब सात हज़ार सेक्शुअली एक्टिव महिलाएं शामिल थीं.

ये सर्वे ब्रिटिश जर्नल ऑफ़ ऑब्स्ट्रिक्स एंड गायनेकॉलॉजी में छपा है. इसके मुताबिक दस में से एक महिला को होने वाली तकलीफ़ का कारण डायसपारुनिया है.

ये महिलाओं में होने वाली आम समस्या है जो मोटे तौर पर 50 साल से ज़्यादा उम्र की महिलाओं को होती है.

सेक्स दवाखाना पर लग रहा है अंकुश?

गणित के होमवर्क में सेक्स से जुड़े सवाल

इसके अलावा 16 साल से 24 साल की महिलाएं भी इससे प्रभावित होती हैं.

हालांकि डाक्टरों के मुताबिक इस समस्या का चिकित्सीय इलाज़ संभव है.

दर्द भरे सेक्स के बाद सेक्स से जुड़ी दूसरी समस्याएं होने की आशंका बनी रहती है जिसमें वैजाइनल ड्राइनेस, सेक्स संबंध बनाने के लिए दौरान चिंतित दिखना और सेक्स के दौरान आनंद की कमी महसूस करना शामिल है.

इमेज कॉपीरइट Science Photo Library

तकलीफ़ भरे सेक्स संबंध बनाने के बाद अलग-अलग तरह का शारीरिक, मनोचिकित्सीय और भावानात्मक असर भी होता है.

इस सर्वे में शामिल कुछ महिलाओं ने बताया कि वे दर्द के डर से सेक्स संबंध बनाने से डरती हैं.

कैरेन (वास्तविक नाम नहीं) 62 साल की हैं और उनके मुताबिक 40 साल की उम्र से उन्हें समस्या का सामना करना पड़ रहा है.

पहले वोट का वादा, फिर सेक्स

वे बताती हैं कि उन्होंने अपनी डॉक्टर से मदद ली. उनके मुताबिक महिलाओं को मालूम होना चाहिए कि इन समस्याओं का हल मिल सकता है और 50 साल के बाद सेक्स जीवन को ख़त्म नहीं मान लेना चाहिए.

हालांकि कई महिलाएं इस मुद्दे पर बात करना नहीं चाहती हैं. इस सर्वे में शामिल एक तिहाई महिलाओं के मुताबिक वे अपने सेक्स जीवन से संतुष्ट नहीं हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे