डोनल्ड ट्रंप को क्यों है चीन की ज़रूरत, 5 वजहें

इमेज कॉपीरइट EPA

चुनाव जीतने के बाद से ही अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने चीन की 'वन चाइना' नीति पर सवाल खड़े कर दशकों से चले आ रहे कूटनीतिक प्रयासों को झटका दिया है. इस पर चीन भी अपनी तीखी प्रतिक्रिया दे चुका है.

ट्रंप ने चीन को दिया 'चौधरी' बनने का मौका

वन चाइना नीति पर समझौता नहीं: चीन

लेकिन इन सब के बावजूद ट्रंप को अपने वादों को पूरा करने के लिए चीन की जरूरत पड़ेगी. पढ़िए, क्या हैं वो 5 वजहें जो ट्रंप के लिए चीन की दोस्ती को ज़रूरी बताती हैं.

नौकरियां

इमेज कॉपीरइट AFP

व्हाइट हाउस की वेबसाइट पर ट्रंप ने अगले दशक तक ढाई करोड़ नई नौकरियों का वादा किया है. इस लक्ष्य को पाने में विदेशी निवेश से मदद मिल सकती है.

ट्रंप ने हाल ही में ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा समूह के संस्थापक जैक मा की तारीफ़ की है. जैक मा ने कहा था कि वो अमरीका के छोटे और मझौले स्तर के बिज़नेस के लिए दस लाख नई नौकरियां पैदा कर सकते हैं.

तो क्या भूमंडलीकरण के पक्ष में खड़ा होगा चीन?

पूर्व अमरीकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश के चीन मामलों के सलाहकार पॉल हैनले का भी कहना है कि नौकरी और अर्थव्यवस्था को लेकर जो ट्रंप के लक्ष्य हैं, उन्हें पाने के लिए उन्हें चीन के साथ कैसे काम करना है, इस पर ध्यान देना होगा.

उत्तर कोरिया

इमेज कॉपीरइट AFP

ट्रंप के ट्वीट ने यह साफ़ कर दिया है कि वो चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से यह उम्मीद करते हैं कि जिनपिंग अपने पड़ोसी देश उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रमों को रोकने के लिए और प्रयास करें.

चीन उत्तर कोरिया का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है और चीन ने किम जोंग उन के शासनकाल में किसी भी और देश की तुलना में सबसे ज्यादा लाभ कमाया है.

उत्तर कोरिया तमाम अंतरराष्ट्रीय दबाव के बावजूद अपने परमाणु कार्यक्रम को जारी रखे हुए है.

चरमपंथ

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption चीन में वीगर मुस्लिम समुदाय के लोग.

डोनल्ड ट्रंप ने शपथ ग्रहण करने के बाद अपने पहले भाषण में दुनिया से 'उग्र इस्लामी चरमपंथ' को ख़त्म करने का वादा किया है.

उनका यह वादा चीन के साथ सहयोग के नए दरवाज़े खोलता है. चीन अपने देश में वीग़र मुसलमानों के आंदोलन को कुचलने में लगा हुआ है.

इसके अलावा चीन के पाकिस्तान और ईरान के साथ नज़दीकी रिश्ते हैं.

ईरान

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी

ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते को ट्रंप ने अमरीकी इतिहास का सबसे ख़राब फ़ैसला बताया है.

अगर वो फिर से इस समझौते को लेकर बात करना चाहते हैं या इसे वापस लेना चाहते हैं तो उन्हें चीन की मदद लेनी होगी.

चीन ईरान का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है.

बड़ा उपभोक्ता बाज़ार

चीन के साथ बेहतर व्यापारिक समझौता करने के लिए ट्रंप ताइवान के मसले पर सौदेबाजी कर सकते हैं.

ट्रंप प्रशासन इसके बदले क्या चाहता है, इसे कुछ हद तक साफ किया गया है.

ट्रंप प्रशासन ने ताइवान के मुद्दे पर नरम होने के बदले चीन से सरकारी सब्सिडी कम करने को कहा है और अमरीकी कंपनियों के लिए चीनी बाज़ार के दरवाज़े थोड़ा और खोलने को कहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे