'मुसलमानों' पर ट्रंप का फ़रमान: वो बातें जो हमें नहीं हैं पता

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ट्रंप के कार्यकारी आदेश का मानवाधिकार समूहों ने विरोध किया है

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने एक कार्यकारी आदेश के ज़रिए सभी शरणार्थियों के अमरीका आने पर रोक लगा दी है.

इसके अलावा सात मुस्लिम बहुल देशों से आने वाले लोगों पर भी 90 दिनों तक रोक रहेगी.

इस बीच एक अमरीकी अदालत ने शरणार्थियों को हिरासत में लिए जाने पर रोक लगा दी है.

प्रवासियों पर प्रतिबंध लगाने के ट्रंप के फ़ैसले की मानवाधिकार समूहों ने कड़ी आलोचना की है.

पढ़ें-ट्रंप को कोर्ट का झटका, अमरीका में ही रहेंगे मुस्लिम शरणार्थी

ट्रंप और पुतिन ने इस्लामिक स्टेट पर की बात

सीरियाई शरणार्थियों के लिए ट्रंप ने बंद किए अमरीकी दरवाज़े

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अमरीका में कई हवाई अड्डे के बाहर विरोध प्रदर्शन हुए हैं

इस आदेश के मुख्य बिंदु

  • अमरीका में शरणार्थियों को शरण देने पर 120 दिनों की रोक.
  • सीरियाई शरणार्थियों पर अनिश्चितकालीन प्रतिबंध.
  • सात मुसलमान बहुल देशों- इराक़, सीरिया, ईरान, लीबिया, सोमालिया, सुडान और यमन से आने वाले लोगों पर 90 दिनों के लिए रोक. इस रोक में यूएन वीज़ा और राजनयिक वीज़ा शामिल नहीं.
  • अपने देशों में दमन का सामना कर रहे धार्मिक अल्पसंख्यकों को वरीयता दी जाएगी. ट्रंप ने खास तौर पर सीरियाई ईसाइयों का ज़िक्र किया.
  • 2017 में अधिकतम 50 हज़ार प्रवासी स्वीकार किए जाएंगे. पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने यह सीमा एक लाख दस हज़ार तय की थी.
  • कुछ विशेष मामलों में छूट दी जा सकती है.
इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption प्यू रिसर्च सेंटर के मुताबिक 2016 में अमरीका में शरण लेने वाले 84995 लोगों में से 12486 सीरिया से थे

क्या बोले ट्रंप

ट्रंप ने कहा है कि शरणार्थी कार्यक्रम पर रोक सुरक्षा एजेंसियों को ज़रूरी सुरक्षा इंतेज़ाम सख़्त करने के लिए समय मुहैया कराने के लिहाज से ज़रूरी है ताकि राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ख़तरा बनने वाले लोगों को वीज़ा न दिया जा सके.

हालांकि उन्होंने ये स्पष्ट नहीं किया कि सुरक्षा एजेंसियां क्या नए क़दम उठाएंगी.

अमरीका में प्रवास के लिए आवेदन देने वाले सीरियाई नागरिकों को पहले ही बेहद कठिन जाँच और सुरक्षा स्क्रीनिंग से गुज़रना होता था. इस प्रक्रिया में 18 से 24 महीने तक लग सकते थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मानवाधिकार समूहों का कहना है कि ट्रंप के आदेश के निशाने पर मुसलमान अपने धर्म की वजह से हैं. उनका ये भी तर्क है कि अभी तक किसी प्रवासी को चरमपंथ संबंधी अपराध में सज़ा नहीं हुई है.

नए प्रतिबंधों का एलान करते हुए ट्रंप ने 11 सितंबर 2001 को हुए हमलों का ज़िक्र किया था. लेकिन हमले में शामिल रहे 19 लोगों में से एक भी प्रतिबंधों में शामिल देशों से नहीं था.

हमें क्या नहीं पता

इमेज कॉपीरइट Reuters

अभी ये स्पष्ट नहीं है कि इस आदेश का क़ानून स्थाई रिहाइश का अधिकार रखने वाले या ग्रीन कार्ड वाले लोगों पर क्या असर होगा. अधिकार समूहों ने ऐसे लोगों को अमरीका से बाहर जाने या लौटने से पहले प्रवासी क़ानून जानकारों से परामर्श करने की सलाह दी है.

वीज़ा साक्षात्कार में छूट के कार्यक्रम को निलंबित किए जाने के बाद दुनियाभर में वीज़ा सेवाओं पर क्या असर होगा. विशेषज्ञों का मानना है कि वीज़ा लेने में अधिक समय लग सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे