दुआ करता हूं कि ट्रंप पाकिस्तानियों को वीजा न दें: इमरान खान

इमरान खान इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका में कुछ मुस्लिम बहुल देशों के लोगों के दाखिल होने से रोकने वाले राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के फरमान पर दुनिया भर में तीखी प्रतिक्रिया हुई है. लेकिन पाकिस्तान की तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के नेता और इमरान खान की राय औरों से काफी अलग है.

उन्होंने कहा, "मैं दुआ करता हूं कि ट्रंप पाकिस्तानियों को वीजा देना बंद कर दें क्योंकि इसके बाद ही हम अपने देश की मुश्किलों को ठीक करने की कोशिश करेंगे."

पाकिस्तानी मीडिया में भी अमरीकी राष्ट्रपति के कार्यकारी आदेश को लेकर खूब चर्चा है. अमरीका ने ईरान, इराक, सीरिया, लीबिया, सूडान, सोमालिया और यमन के लोगों पर अपने यहां दाखिल होने से 120 दिनों के लिए रोक लगा दी है.

ट्रंप का फ़रमान, वो बातें जो हमें नहीं पता हैं

पहले दिन कारोबारी डील रद्द करेंगे ट्रंप

डोनल्ड ट्रंप के जीतने की 5 वजह

इमेज कॉपीरइट EPA

पाकिस्तानी मीडिया में इस बात को लेकर आशंका जाहिर की जा रही है कि वीज़ा रोक के दायरे में उनके मुल्क को भी लाया जा सकता है.

अंग्रेजी अखबार 'डेली टाइम्स' ने सुर्खी लगाई है, "मुस्लिम जगत को झटका, ट्रंप के वीजा बैन पर गुस्सा फूटा."

कराची से निकलने वाले अखबार 'एक्सप्रेस ट्रिब्यून' की हेडलाइन है, "अमरीका का इशारा, पाकिस्तान पर भी लग सकता है वीजा बैन."

उदारवादी माने जाने वाले इस अखबार ने व्हाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ राइंस प्रीबस के हवाले से कहा है कि अस्थाई पाबंदी की सूची में शामिल देशों की तरह और भी कई देश हो सकते हैं जिनके यहाँ ऐसी ही समस्याएँ हैं- जैसे पाकिस्तान या दूसरे देश जहां इस पाबंदी को और सख्त किया जाए.

ट्रंप के वो 7 वादे जो अब चुनावी जुमले बन गए

राष्ट्रपति बनने पर ट्रंप बिज़नेस से अलग होंगे

'ट्रंप से बिगड़ सकते हैं अमरीका-यूरोप संबंध'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बदल रहा है अमरीका

लाहौर से निकलने वाले पाकिस्तानी अखबार 'पाकिस्तान टुडे' ने अपने संपादकीय में लिखा है, "इस्लामाबाद देर सवेर इसके दायरे में आएगा ही. रिपब्लिकंस के हालिया संकेतों को देखें तो बदले हालात में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साथ देने की सूरत खत्म होती हुई दिख रही है."

इस बीच पंजाब में एक पार्टी रैली में इमरान खान ने ईरान के जैसे को तैसा वाले जवाब की तारीफ की. ईरान ने अमरीकी प्रतिबंध के हटाए जाने तक उसके नागरिकों के भी अपने यहां आने पर रोक लगा दी है.

इस्लामाबाद से निकलने वाले उर्दू अखबार 'जिन्ना' ने अमरीका की इस फैसले के लिए मुखालफत की है.

'वीज़ा बैन लिस्ट में पाक, सऊदी अरब क्यों नहीं?'

पहले 100 दिन में क्या-क्या करेंगे ट्रंप?

पाकिस्तान का दौरा करना चाहेंगे ट्रंप

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उसने लिखा है, "पिछली अमरीकी सरकार ने मानवाधिकारों के संरक्षण का भरोसा दिलाया था. अमरीकी फौज अल-कायदा और तालिबान के खिलाफ अफगानिस्तान में लड़ी, लेकिन व्हाइट हाउस ने अफगान नागरिकों के अमरीका में दाखिल होने पर कोई रोक नहीं लगाई. ओसामा बिन लादेन ऐबटाबाद में मारा गया, लेकिन तब अमरीका ने पाकिस्तानी नागरिकों पर ऐसी कोई रोक नहीं लगाई. कर्नल गद्दाफी की सरकार को लीबिया में उखाड़ फेंका गया, लेकिन लीबीयाई लोगों पर ऐसी कोई पाबंदी नहीं लगी. लेकिन डोनल्ड ट्रंप हर वो काम करने के लिए तैयार हैं जिसके बारे में अमरीकी प्रशासन ने सोचा तक नहीं था. नए अमरीकी प्रशासन के सामने ट्रंप के रूप में सबसे बड़ी चुनौती है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे