अमरीकी राजनयिक करेंगे 'पाबंदी की आलोचना'

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अमरीका में जगह-जगह ट्रंप के आदेश का विरोध हो रहा है

बीबीसी को जानकारी मिली है कि दुनिया भर में अमरीका के सैकड़ों राजनयिक राष्ट्रपति ट्रंप की आप्रवासियों पर पाबंदी लगाने के फ़ैसले की आलोचना करनेवाले हैं.

विदेश विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के लिए एक 'डिसेंट केबल' यानी आपत्ति दर्ज़ करनेवाले दस्तावेज़ का एक मसौदा तैयार कर लिया गया है.

इसमें कहा गया है कि इस नीति से मुट्ठी भर संभावित चरमपंथियों को रोकने के लिए 20 करोड़ दूसरे वैध यात्रियों के लिए अमरीका की सीमा बंद हो जा सकती है.

उन्होंने कहा है कि इस क़दम से अमरीका की सुरक्षा नहीं बढ़ेगी.

ये दस्तावेज़ अभी जारी नहीं हुआ है मगर बीबीसी ने इसके टेक्स्ट को देखा है.

फ़ैसले की चौतरफ़ा निन्दा, पर ट्रंप अड़े

ट्रंप का फ़रमान: वो बातें जो हमें नहीं हैं पता

व्हाइट हाउस ने चेताया

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption व्हाइट हाउस की पत्रकार वार्ता में प्रवक्ता शॉन स्पाइसर

अमरीकी राष्ट्रपति कार्यालय ने कहा है कि आपत्ति जतानेवाले अमरीकी राजनयिकों को या तो इस पाबंदी को स्वीकार करना चाहिए या पद छोड़ देना चाहिए.

व्हाइट हाउस में पत्रकार वार्ता में प्रवक्ता शॉन स्पाइसर ने कहा कि इस मसले को बहुत बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि जिन नौकरशाहों को तकलीफ़ है उन्हें या तो साथ देना चाहिए या चले जाना चाहिए.

खुश हैं ओबामा

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस बीच पूर्व अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के दफ़्तर ने एक बयान जारी कर कहा है कि उन्हें यात्रा पाबंदी के ख़िलाफ़ हो रहे विरोध को देखकर ख़ुशी हो रही है.

उनके प्रवक्ता केविन लुईस ने कहा है कि ओबामा मानते हैं कि नागरिकों का संवैधानिक तौर पर अपनी बात को निर्वाचित अधिकारियों के सामने रखना बिल्कुल सही है.

ओबामा का मानना है कि अमरीकी मूल्यों को दाँव पर लगता देख उन्हें ऐसा ही करना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)