निंदा करनेवाली अटॉर्नी जनरल सैली येट्स को ट्रंप ने किया बर्खास्त

ट्रंप इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रवासियों पर ट्रंप के फ़रमान अमरीका में हो रहा है जोरदार विरोध

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने उनके कार्यकारी आदेशों की निंदा करनेवाली कार्यकारी अटॉर्नी जनरल सैली येट्स को बर्खास्त कर दिया है. कार्यकारी अटॉर्नी जनरल सैली ने न्यायिक विभाग से कहा था कि वह प्रवासियों पर राष्ट्रपति ट्रंप के आदेश का बचाव न करे. व्हाइट हाउस के एक बयान में सैली येट्स पर धोखा देने का आरोप लगाया गया है.

सैली येट्स की नियुक्ति ट्रंप के पूर्ववर्ती बराक ओबामा ने की थी. सैली को हटाने के बाद ईस्टर्न डिस्ट्रिक्ट ऑफ़ वर्जीनिया के अटॉर्नी डेना बोएनते को ट्रंप ने कार्यकारी अटॉर्नी बनाया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption असहमति के कारण ट्रंप ने सैली को कार्यकारी अटॉर्नी से हटाया

येट्स कहा था कि उन्हें प्रवासियों पर राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के कार्यकारी आदेश को देखकर ये नहीं लगता कि यह नियमों के तहत है.

राष्ट्रपति ट्रंप ने मुस्लिम बहुल आबादी वाले सात देशों के नागरिकों के अमरीका आने पर अस्थायी रूप से प्रतिबंध लगा दिया है. ट्रंप के इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अमरीका समेत दुनिया भर के कई देशों में विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं. सैकड़ों अमरीकी राजनयिकों ने भी इस आदेश की औपचारिक रूप से आलोचना की है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सैली येट्स को ओबामा ने नियुक्त किया था

राजनयिकों का पक्ष

इन राजनयिकों ने कहा कि प्रवासियों पर इस तरह के प्रतिबंध से अमरीका सुरक्षित नहीं होगा. इन्होंने कहा कि इससे मुस्लिम दुनिया में ग़लत संदेश जा रहा है. बीबीसी ने इन राजनयिकों की लिखित शिकायतों को देखा है. ट्रंप ने सीरिया, इराक, ईरान, लीबिया, सोमालिया, सूडान और यमन के नागरिकों पर पाबंदी लगाई है.

फ़ैसले की चौतरफ़ा निन्दा, पर ट्रंप अड़े

ट्रंप का फ़रमान: वो बातें जो हमें नहीं हैं पता

क्या ट्रंप का आदेश नियमों का उल्लंघन है?

येट्स की जगह ट्रंप ने अटॉर्नी जनरल के लिए जेफ़ सेशन्स को नामांकित किया है. येट्स ने एक पत्र अपने सहकर्मियों को लिखा है. यह पत्र मीडिया में भी आ गया है. उन्होंने पत्र में लिखा है कि इस आदेश की वैधता को लेकर कोर्ट में चुनौती दी गई है. येट्स ने कहा, ''न्यायिक विभाग साफ़ करे कि यह नियमों के तहत है या नहीं. इसे सुनिश्चित करना मेरी जिम्मेदारी है. न्यायिक विभाग लोगों को सूचित करे कि इस मसले पर क़ानून क्या कहता है.''

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption इस फ़ैसले से प्रभावित पीड़ितों के परिवार एयरपोर्ट पर इंतजार करते हुए

येट्स ने कहा, ''यह हमारी जिम्मेदारी है कि कोर्ट में अपना पक्ष रखें. हमारा बस एक ही दायित्व है कि हम हमेशा इंसाफ और सही पक्षों का साथ दें.''

ट्रंप के बैन से किसका चैन गया, किसकी उड़ी नींद

पूर्व राष्ट्रपति ओबामा के शासनकाल में येट्स लोरेटा लिंच के साथ डिप्टी अटॉर्नी जनरल थीं. लिंच के जाने के बाद वह कार्यकारी अटॉर्नी जनरल बनाई गईं. ट्रंप ने इनसे कहा था कि वह न्यायिक विभाग की प्रमुख तब तक बनी रहें जब तक कि किसी की औपचारिक नियुक्ति नहीं हो जाती. सीनेटर जेफ़ सेशन्स सीनेट से अपनी नियुक्ति पर पुष्टि का इंतज़ार कर रहे हैं.

ट्रंप को ब्रिटेन आने से रोकने के लिए हस्ताक्षर अभियान

येट्स की यह टिप्पणी ओबामा के उस बयान के बाद आई जिसमें उन्होंने ट्रंप के इस आदेश के ख़िलाफ़ देश भर में हो रहे विरोध-प्रदर्शनों की प्रशंसा की थी.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ लंदन में भी हुआ भारी विरोध प्रदर्शन

ओबामा भी ट्रंप से सहमत नहीं

ओबामा ने कहा था, ''लोग अपने संवैधानिक अधिकारों का इस्तेमाल कर रहे हैं. जो लोग सड़कों पर उतरे हैं उनकी आवाज़ चुने गए प्रतिनिधि सुनेंगे और समझेंगे कि अमरीकी मूल्य दांव पर लगता है तो लोगों में कैसी बेचैनी होती है.''

इससे पहले ओबामा ने कहा था कि वह ऑफिस छोड़ने के बाद तब बोलेंगे जब ट्रंप अमरीकी मूल्यों के लिए खतरा बनेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे