यमन पर अमरीकी हमले में मारे गए आम नागरिक?

Image caption ख़बरों के अनुसार नवर अल-ऑलाकी की मौत हो गई है. अमरीकी ड्रोन के हमले में उनके पिता और भाई की भी मौत हो गई थी

व्हाइट हाउस ने कहा है कि यमन में अल-कायदा के गढ़ पर 'काफी विचार के बाद' किए गए हमले में नागरिको के मारे जाने की आशंका है.

मानवाधिकार संगठन रिप्रीव का कहना है कि शनिवार को यक्ला ज़िले के एक गांव में हुए हमले में कम से कम 23 नागरिक मारे गए हैं.

मारे जाने वालों में अनवर अल-ऑलाकी की 8 साल की बेटी भी शामिल है. साल 2011 में अमरीकी ड्रोन के एक हमले में अनवर की मौत हो गई थी.

अमरीका के राष्ट्रपति बनने के बाद ये पहला ऐसा अभियान है जिसे डोनल्ड ट्रंप ने आधिकारिक तौर पर अनुमति दी थी.

अमरीकी सेना ने इससे पहले कहा था गांव में हुए इस हमले में नौसेना के एक जवान की मौत हुई है और तीन अन्य घायल हुए हैं. लेकिन अब अमरीकी सेंट्रल कमांड ने कहा है कि मारे जाने वालों में बच्चे भी हो सकते हैं.

ट्रंप के आदेश का काहिरा में असर, गूगल भी चिंतित

यमन में कौन किससे लड़ रहा है?

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption यमन में एक गांव में दीवार पर बना एक चित्र

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता शॉन स्पाइसर ने पत्रकारों को बताया, "किसा भी काम पर पूर्ण रूप से सफल कहना मुश्किल होगा, ख़ास कर तब जब किसी की जान गई हो और लोग घायल हुए हों."

उन्होंने कहा, "लेकिन मुझे लगता है कि जब आप देखते हैं कि आने वाले दिनों में जिंदगियां बचाने के लिए जो किया गया उससे क्या मिला तो... सभी मानकों पर मुझे यह एक सफल ऑपरेशन लगता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)