जहां पादरी ही करने लगे बच्चों का यौन शोषण

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ऑस्ट्रेलिया में एक जांच के दौरान पता चला है कि देश के सात प्रतिशत कैथोलिक पादरी बच्चों के यौन शोषण में लिप्त रहे हैं.

यह अध्ययन 1950 से 2010 के बीच किया गया है. वहीं एक दूसरी जांच के मुताबिक देश के क़रीब 40 फ़ीसदी चर्च पर बच्चों के यौन शोषण के आरोप हैं.

बच्चों के यौन शोषण से जुड़े मामलों पर नज़र रखने वाली रॉयल कमीशन के पास 1980 से 2015 के बीच करीब 4,500 लोगों ने यौन शोषण होने की शिकायत दर्ज कराई थी.

दो फ़ीसदी पादरी पीडोफ़ाइल: पोप फ़्रांसिस

यौन शोषण की शिकार वैटिकन की समिति में

चर्च को बदलना होगा रवैया: पोप फ्रांसिस

यह कमीशन ऑस्ट्रेलिया में धार्मिक और गैर धार्मिक जगहों पर होने वाले यौन शोषण की जांच करने की सबसे शीर्ष संस्था है.

सिडनी में कमीशन की मदद करने वाली वकील गेल फ़रनेस के मुताबिक यौन शोषण की पीड़ितों की कहानियां काफी अवसाद भरी हैं.

गेल बताती हैं, "बच्चों की उपेक्षा की गई, उन्हें सज़ा भी दी गई. आरोपों की जांच नहीं हुई. पादरी और धार्मिक गुरू आसानी से बच गए. इन चर्चों को उन पादरियों के बारे में कुछ पता नहीं चल पाया."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ऑस्ट्रेलिया के सबसे वरिष्ठ कैथोलिक पादरी जार्ज पेल

गेल के मुताबिक 1980 से 2015 के बीच ऑस्ट्रेलिया के 1000 कैथोलिक इंस्टीट्यूशनों में 4,444 बच्चों का यौन उत्पीड़न हुआ.

इन बच्चों की औसत आयु लड़कियों के लिए 10.5 साल रही है, वहीं लड़कों के लिए 11.5 साल. लेकिन चिंता की बात ये है कि प्रत्येक मामले में रिपोर्ट दर्ज कराने में औसत 33 साल का वक्त लगा है.

ऑस्ट्रेलिया में रॉयल कमीशन की स्थापना 2013 में हुई थी. यह स्कूल, स्पोर्ट्स क्लब और धार्मिक संस्थाओं में होने वाले यौन उत्पीड़न के मामलों की जांच के लिए बनाई गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)