अफ़ग़ानिस्तान की तलवारबाज़ हसीनाएं....

इमेज कॉपीरइट MOHAMMAD ISMAIL/ REUTERS

अफ़ग़ानिस्तान में राजधानी काबुल के पास शाओलिन वुशु क्लब चलाने वाली 20 साल की सीमा अज़ीमी बर्फ़ीली चोटियों पर अपनी साथियों के साथ अभ्यास कर रही हैं.

चीन में प्राचीन समय में विकसित हुए मार्शल आर्टस वुशु का अभ्यास करने वाली ये लड़कियां तलवारें लेकर करतब करती दिख रही हैं.

इमेज कॉपीरइट MOHAMMAD ISMAIL/ REUTERS
इमेज कॉपीरइट MOHAMMAD ISMAIL/ REUTERS

ईरान में वुशु की कला सीखकर आईं सीमा ने प्रतियोगिताओं में कई पदक जीते हैं.

वो कहती हैं, " मैं चाहती हूं कि मेरी शिष्याएं अंतरराष्ट्रीय मैचों में हिस्सा लें और देश के लिए मेडल जीतें."

इमेज कॉपीरइट MOHAMMAD ISMAIL/ REUTERS

अफ़ग़ानिस्तान में मार्शल आर्ट्स काफ़ी लोकप्रिय है लेकिन महिलाओं को खेलों से सख्ती से दूर रखा जाता है.

इमेज कॉपीरइट MOHAMMAD ISMAIL/ REUTERS

इस क्लब में आने वाली सभी महिलाएं दारी बोलने वाले हज़ारा समुदाय की हैं. हज़ारा शिया मुस्लिमों का समुदाय है .

अपनी सामाजिक मान्यताओं में कुछ उदार माने जाने वाले हज़ारा समुदाय की लड़कियों को घर से बाहर खेल में हिस्सा लेने की इजाज़त है.

इमेज कॉपीरइट MOHAMMAD ISMAIL/ REUTERS
इमेज कॉपीरइट MOHAMMAD ISMAIL/ REUTERS

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में उन्हें कई तरह की धमकियों और उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है.

वुशु सीखने वाली शकीला मुरादी कहती हैं , ''बहुत लोग हमें परेशान करते हैं लेकिन हम उन्हें नज़रअंदाज़ कर अपने लक्ष्य पर ध्यान देते हैं."

इमेज कॉपीरइट MOHAMMAD ISMAIL/ REUTERS

सीमा पिछले एक साल से काबुल में वुशु क्लब में लड़कियों को सिखा रही हैं.

सीमा अपने पिता के जिम में ट्रेनिंग भी करती हैं, जहां हज़ारा मार्शल आर्ट चैम्पियन हुसैन सादिक़ी का पोस्टर लगा है. हुसैन सादिक़ी स्टंटमैन हैं और फ़िल्मों में काम करने के लिए ऑस्ट्रेलिया चले गए थे.

सीमा के पिता को अपनी बेटी पर गर्व है. वो कहते हैं , " मैं खुश हूं कि मैंने उसकी मदद की, हिम्मत बढ़ाई और सहारा दिया."

इमेज कॉपीरइट MOHAMMAD ISMAIL/ REUTERS
इमेज कॉपीरइट MOHAMMAD ISMAIL/ REUTERS

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे