ट्रंप की दलीलः बैन सही, अदालत ग़लत

इमेज कॉपीरइट AP

अमरीका के न्याय मंत्रालय ने राष्ट्रपति ट्रंप के ट्रैवेल बैन को सही ठहराते हुए अदालत से इसे राष्ट्रीय हित में फिर से लागू करने का आग्रह किया है.

उन्होंने अदालत में अपनी औपचारिक दलील में कहा है कि ये पाबंदियाँ लगाना राष्ट्रपति के अधिकार में आता है और एक अदालत का इसके पालन पर रोक लगाना ग़लत है.

सैन फ़्रांसिस्को स्थित एक संघीय अपील अदालत ने कहा है कि वो इस ट्रैवेल बैन पर मंगलवार को सुनवाई करेगी.

अमरीका के दो राज्यों, वाशिंगटन और मिनेसोटा, ने कहा है कि इस पाबंदी को लागू करने से अव्यवस्था फैलेगी.

गूगल, ऐपल, फ़ेसबुक ने दी ट्रैवल बैन को चुनौती

'ट्रैवल बैन लगा तो अमरीका में कोहराम मच जाएगा'

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption बैन पर रोक के बाद अमरीका पहुँचे यमन के यात्री

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने 25 जनवरी को एक एक्ज़ीक्यूटिव ऑर्डर जारी कर सात देशों के लोगों के अमरीका जाने पर अस्थायी पाबंदी लगा दी थी जो मुख्य रूप से मुस्लिम आबादी वाले देश हैं.

'मुसलमानों' पर ट्रंप का फ़रमान: वो बातें जो हमें नहीं हैं पता

ट्रंप के ट्रैवल बैन के फ़ैसले पर कोर्ट की रोक

इसके बाद अमरीका और कई विदेशी हवाई अड्डों पर असमंजस की स्थिति पैदा हो गई और कई यात्रियों को अमरीका जाने से रोका जाने लगा जिसपर काफ़ी हंगामा हुआ.

तीन फ़रवरी को वाशिंगटन राज्य के एक फ़ेडरल जज ने ट्रंप के आदेश पर ये कहते हुए रोक लगा दी कि ये पाबंदी असंवैधानिक है और राष्ट्रहित के लिए नुक़सानदेह है.

इस रोक के बाद सात देशों - ईरान, इराक़, लीबिया, सोमालिया, सूडान, सीरिया और यमन - के लोग फिर से अमरीका की यात्रा कर पाने लगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे