'हिना का गुनाह बस नौकरी करना था'

इमेज कॉपीरइट Kashif Shah, Facebook
Image caption हिना शाहनवाज़

पाकिस्तान के पेशावर में कई लोगों ने एक महिला की हत्या के विरोध में प्रदर्शन किए हैं. कोहत में हिना शाहनवाज़ को उन्हीं के एक रिश्तेदार ने इसलिए गोली मार दी थी क्योंकि उन्हें हिना का नौकरी करना पसंद नहीं था.

पेशावर प्रेस क्लब के सामने आयोजित इस विरोध प्रदर्शन में हिस्सा ले रहे प्रदशनकारियों का कहना है कि देश में महिलाओं पर हमले लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन इस बारे में सरकार और सरकारी संस्थाएं मूकदर्शक बनी हुई हैं.

विरोध प्रदर्शन में शामिल कमर नसीम ने बीबीसी को बताया, "हिना शाहनवाज़ को सिर्फ इसलिए मार डाला गया क्योंकि वो अपने परिवार में कमाने वाली एकमात्र महिला थीं."

उन्होंने कहा कि ''यह कोई नई बात नहीं है, कोई यह मानने को तैयार नहीं है कि महिला भी घर चला सकती हैं और अपने फ़ैसले ख़ुद ले सकती हैं.''

कोहत के ज़िला पुलिस के अनुसार 27 साल की हिना शाहनवाज़ पर उनके चचेरे भाई ने गोलियां चलाईं क्योंकि उन्हें हिना का काम करना नापंसद था.

इमेज कॉपीरइट Pakhtunkhwa Civil Society Network, Facebook
Image caption ख़ैबर पख़्तूनवां सिविल सोसायटी ने हिना शाहनवाज़ की हत्या और महिलाओं के ख़िलाफ़ बढ़ रही हिंसा का विरोध करने के लिए पेशावर प्रेस क्लब के सामने विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया था.

पुलिस के अनुसार हिना की बहन फ़रहीन शाह ने बताया कि उनके रिश्तेदार ने हिना को नौकरी करने से मना किया जिस पर दोनों में तकरार हुई और इस दौरान उनके रिश्तेदार ने ग़ुस्से में हिना पर गोलियां चला दीं.

पुलिस के अनुसार हिना ने पेशावर में एम.फिल किया था जिसके बाद से वो इस्लामाबाद में एक ग़ैर-सरकारी संगठन में काम कर रही थीं. इसी नौकरी की मदद से वो अपनी विधवा मां और भाभी, अपने भाई के बच्चों और अपनी बहन का भी भरण-पोषण करती थीं.

दो साल पहले हिना के पिता की मौत कैंसर से हो गई थी. उनके भाई की भी मौत हो चुकी है.

पुलिस का कहना है आरोपी के परिवार के पांच लोगों को हिरासत में ले लिया गया है जबकि आरोपी फरार है. उसकी गिरफ्तारी के लिए छापे मारे जा रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे