तालाब में घंटों नाक उठा कर बचाई जान

तालाब में फंसे मिलर तब तक चिल्लाते रहे जब तक कि उनकी आवाज़ पड़ोसी ने नहीं सुनी. इमेज कॉपीरइट 9news.com.au
Image caption तालाब में फंसे मिलर तब तक चिल्लाते रहे जब तक कि उनकी आवाज़ पड़ोसी ने नहीं सुनी.

ऑस्ट्रेलिया में एक व्यक्ति ने तालाब में गिरने के बाद किसी तरह अपनी जान बचाई है.

घटना उस वक्त हुई जब 45 साल के डैनियल मिलर, सिडनी से 300 किलोमीटर दूर अपनी निजी ज़मीन में खुदाई मशीन चला रहे थे.

जब वो तालाब के पास बने बांध के पास पहुंचे तो उनकी तीन टन वज़न वाली खुदाई मशीन तालाब में गिर गई और वो तालाब में फंस गए.

इसके बाद वो घंटों तक अपनी जान बचाने के लिए संघर्ष करते रहे. किसी तरह वो अपनी नाक पानी से ऊपर रख पाने में कामयाब रहे.

तालाब में फंसे मिलर तब तक चिल्लाते रहे जब तक कि उनकी आवाज़ 500 मीटर की दूरी पर एक पड़ोसी ने नहीं सुनी.

इस दौरान उन्होंने योग मुद्रा का प्रयोग किया. डैनियल मिलर ने सिडनी डेली टेलीग्राफ़ से कहा, "मैं फंस गया था, मैंने अपनी बाहों का इस्तेमाल पानी के ऊपर अपने सिर को रखने के लिए किया, मुझे लगता है कि यह कोबरा स्थिति थी,"

इमेज कॉपीरइट 9news.com.au
Image caption डैनियल मिलर को हेलीकॉप्टर से अस्पताल ले जाया गया.

उन्होंने कहा, " मैं योगी नहीं हूँ लेकिन आप कह सकते हैं कि योग ने मेरी जान बचाई."

बचाव कर्मियों का कहना है कि उनकी ज़िंदगी की अग्नि परीक्षा दो घंटे तक चली, लेकिन मिलर की पत्नी ने फेसबुक पर लिखा था कि यह पांच घंटे तक चली.

मिलर कहते हैं कि तालाब में वह पूरे समय अपनी पत्नी और दो छोटे बच्चों के पास वापस लौटने के बारे में सोचते रहे.

पुलिस चीफ इंस्पेक्टर नील स्टीफंस ने कहा कि केवल मिलर की नाक और माथा पानी के ऊपर थे.

उन्होंने एक न्यूज़ चैनल से कहा, " मिलर ज़िंदा रहने के लिए बेहद भाग्यशाली रहे."

बचाव कमियों ने मिलर को तालाब से निकालने के लिए पहले कुछ कीचड़ और पानी सूखाया.

इसके बाद मिलर को हेलीकॉप्टर से करीबी शहर न्यूकैसल के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां हाइपोथर्मिया और पीठ पर मामलू चोटों का इलाज किया गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)