इराक़ युद्ध के आरोपों की जांच रोकेगा ब्रिटेन

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ब्रिटेन के रक्षामंत्री माइकल फैलोन का कहना है कि इराक़ युद्ध में शामिल रहे जवानों पर लगे आरोपों की जांच जल्द ही बंद कर दी जाएगी.

रक्षा मंत्री के मुताबिक़ इराक़ युद्ध ऐतिहासिक आरोप टीम (आईएचएटी) इस साल गर्मियों में बंद कर दी जाएगी और बचे हुए बीस मामले द रॉयल नेवी पुलिस को सौंप दिए जाएंगे.

इस जाँच पर क़रीब 3.4 करोड़ पाउंड (283.42 करोड़ रुपए) ख़र्च हो चुके हैं लेकिन अभी तक किसी को दोषी नहीं पाया गया है. सांसदों ने इस जांच को 'घोर नाकामी' कहा है.

इराक़ के नागरिकों के आरोपों की जाँच के लिए इस टीम का गठन साल 2010 में किया गया था.

पढ़ें- इराक़ युद्ध ग़ैरक़ानूनी था: पूर्व ब्रितानी डिप्टी पीएम

इराक़ युद्ध पर टोनी ब्लेयर ने मांगी माफी

तस्वीरें- इराक़ युद्ध के 'आठ खिलाड़ी'

शोषण के कई आरोपों की जाँच कर रहे मानवाधिकार अधिवक्ता फिल शाइनर के व्यवहार पर एक जांच के बाद सवाल उठने के बाद इस टीम को बंद करने का फ़ैसला लिया गया है.

अब निष्क्रिय लॉ फ़र्म पब्लिक इंट्रेस्ट लॉयर्स से जुड़े फिल शाइनर को फरवरी में जांच से हटा दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट PA
Image caption मानवाधिकार अधिवक्ता फिल शाइनर को आरोपों के बाद जांच से हटा दिया गया था.

रक्षामंत्री माइकल फैलान ने कहा, "उनकी बेइमानी सामने आने के मतलब है कि उनके कई अन्य दावों को खारिज कर दिया जाएगा और ये आईएचएटी के अंत की शुरुआत होगी."

उन्होंने कहा, "ये हमारे उन सैनिकों के लिए राहत की बात होगी जिनके सर पर लंबे समय से जांच लटकी थी. अब हम अपनी क़ानून व्यवस्था का दुरुपयोग रोकने के लिए भी क़दम उठा रहे हैं."

इराक़ युद्ध: दहलाने वाली कुछ तस्वीरें

इससे पहले शुक्रवार को सांसदों ने कहा था कि आईएचएटी सैन्यबलों की चिंताओं को लेकर बेपरवाह है और इसे बंद किया जाना चाहिए.

डिफ़ेंस समिति की रिपोर्ट के मुताबिक़ आएचएटी ने कई मामलों में ठोस सबूतों के अभाव के बावजूद सुनवाई के लिए 3500 से अधिक आरोप स्वीकार किए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)