ट्रंप की कामिनी अब कुल्टा बन गई है!

इमेज कॉपीरइट Reuters

गांव में खपरैल की टपकती हुई छत के नीचे मास्टरजी पढ़ाया करते थे- अ से अनार और दो दूनी चार.

जब पढ़ाई से बचने के लिए हम टपकती हुई छत दिखाते थे तो कभी घु़ड़की तो कभी कान के नीचे एक ज़ोरदार वाला लगाकर कहते थे, "नालायकों कागज़ के नहीं बने हो कि गल जाओगे. पढ़ाई में मन लगाओ."

इन दिनों व्हाइट हाउस भी उसी खपरैल की छत वाले स्कूल की तरह टपक रहा है. ट्रंप टीम दोपहर की प्रेस कांफ़्रेंस में लीक को रोकने के लिए लीपा-पोती कर रही होती है, अ से अनार की जगह अ से नारंगी और दो दूनी चार की जगह दो दूनी पांच की दलील थोप रही होती है.

मीडिया पर बरसे ट्रंप, छवि बिगाड़ने का आरोप

25 दिनों में ही ट्रंप के सुरक्षा सलाहकार फ़्लिन का इस्तीफ़ा

लेकिन लीक का आलम ये है कि शाम होते-होते सब पर पानी फिर जाता है. बूंद मूसलाधार में बदल जाती है और इस हफ़्ते तो बहाव इतना तेज़ था कि राजा ट्रंप के सबसे दुलारे दरबारियों में से एक बहा चले.

और उसके बाद जो कीचड़ फैल रहा है वो कहीं दलदल न बन जाए इसका डर अलग है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कहां तो राजा ट्रंप वॉशिंगटन के सियासी दलदल को ख़त्म करने के वादे पर चुनाव जीत कर आए थे और अब ख़ुद दलदल में फंसे बौखलाए हाथी की तरह ट्विटर पर चिंघाड़ रहे हैं.

कह रहे हैं नामुराद लीक करनेवालों को बख़्शा नहीं जाएगा.

न तो कोई महावत है न कोई मास्टरजी जो कान के नीचे लगाकर ये कहने की ज़ुर्रत कर सकें---मियां लीक को छोड़ो, काम पर ध्यान लगाओ.

वैसे वक्त-वक्त की बात है. कल तक ऐसे ही लीक्स से राजा साहब महबूबा की तरह इश्क़ करते थे.

इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY

जब हिलेरी क्लिंटन के ईमेल्स बरस रहे थे तो उससे रेगिस्तान में पड़नेवाली बारिश की फ़ुहार की तरह आनंदित होते थे. बड़े प्यार से कहते थे, "आई लव विकीलीक्स."

अब वही महबूबा चुन्नु, मुन्नु, मीना, मंटू की बेडौल अम्मा बनकर साथ रहने लगी है तो आंखों को सुहा नहीं रही. कल तक उसे कामिनी कहते थे आज कुल्टा कह रहे हैं. हर गुज़रते दिन के साथ मीडिया वालों के साथ उसकी ताकझांक बढ़ती ही जा रही है.

ट्रंप ने मीडिया को क्यों कहा 'बेईमान'?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कहां तो अरबों डॉलर की दीवार बनाकर उस पर अपना नाम लिखवाकर पूरे मेक्सिको को रोकने की तैयारी कर रहे थे. और यहां अपने ही घर की दीवार के सुराखों से कानाफ़ूसी चल रही है.

ग़ुस्सा मीडियावालों पर भी उतर रहा है. कभी बेईमान तो कभी फ़ेक न्यूज़ कह कर उन्हें लताड़ते हैं, लेकिन ये टीवी-अख़बारवाले तो इस नौकरी में घुसते ही हैं मोटी चमड़ी लेकर.

किसी देश में उन्हें "प्रेस्टीट्यूट" कहा जाता है तो कहीं 'रॉ का एजेंट'. ऐसे नामों की तो उन्हें आदत पड़ चुकी है.

कहां फंस गए राजा साहब. करें तो क्या करें. ये वॉशिंगटन है ही गंदी और बदनाम जगह. चुनावी रैलियां कितनी अच्छी होती थीं.

एक जुमला कहते थे, लोग ट्रंप, ट्रंप, ट्रंप, ट्रंप के नारे लगाते थे. यहां एक जुमला कहते हैं, उस पर चार सवाल खड़े हो जाते हैं.

अब बहुत हो गया. अरे प्लेन निकालो रे! राजा साहब फ़्लोरिडा जाएंगे. इस शनिवार वहां एक रैली करेंगे. लाल टोपी पहने हुए सच्चे लोगों से मिलेंगे और वहीं पर थोड़ी देर अमरीका को फिर से महान बनाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे