'मेरे हत्यारे पिता की 13 पत्नियां और 50 बच्चे थे'

इमेज कॉपीरइट Anna LeBaron
Image caption एना लाबरेन

बहुविवाह पंथ के नेता एरविक लाबेरन की 13 पत्नियों से हुई 50 से ज़्यादा औलादों में से एना लाबरेन एक हैं. उनके पिता 20 से ज़्यादा हत्याओं के लिए ज़िम्मेदार थे.

वो हत्याएं जो एरविक की मौत के बाद भी जारी रहीं क्योंकि उनकी मौत के बाद वो एक हिट लिस्ट छोड़ गए थे जिसमें शामिल नामों की हत्याएं उनके अनुयायियों ने की.

एना ने अपने अनुभवों को किताब की शक्ल दी है जिसका नाम है ' द पॉलीगेमिस्ट्स डॉटर' यानी एक बहुविवाही की बेटी.

एना ने पहली बार बताया कि कैसे वो बहुविवाह पंथ से भागीं. उन्हें उम्मीद है कि वो इसके ज़रिए लाबेरन नाम से मुक्त हो जाएंगी.

इमेज कॉपीरइट एना लाबरेन
Image caption एना लाबरेन अपने भाई एडी के साथ

'हमें सिखाया गया था कि हमें उनसे डरना चाहिए क्योंकि वो ईश्वर के दूत हैं, दुनिया में एक सच्चे दूत. हमें सिखाया गया कि हम दिव्य संताने हैं क्योंकि हम ईश्वर के दूत एरविल लाबेरन की संताने हैं. और हम ये मानने लगे. हलांकि हमें बहुत बुरी तरह से रखा जाता था फिर भी हम मानते थे कि हम दिव्य संताने हैं.'

इमेज कॉपीरइट Anna LeBaron
Image caption एरविल लाबेरन अपनी चौथी पत्नी के साथ

एना बताती हैं कि उनके पिता की 13 पत्नियों के 50 से ज़्यादा बच्चे बिना वेतन के मज़दूर थे, जो घरेलू उपकरणों की मरम्मत की दुकानों पर काम करते थे.

पंथ की आमदनी का वही अहम ज़रिया था. स्कूल की छुट्टियों के दौरान बच्चों से 12 घंटे काम करवाया जाता था.

एना कहती हैं ' मैंने अपने भाई बहनों को बुरी तरह पिटते देखा है. और वो बहुत छोटे बच्चे थे. आप किसी 10-11 साल के बच्चे से कितना काम ले सकते हैं. लेकिन उन्हें मारपीट पर काम करवाया जाता था.'

हालांकि बच्चे पूरी तरह से बाहरी दुनिया से अलग नहीं थे, वो स्कूल जाते थे लेकिन उन्हें घर के अंदर की बातें बाहर करने की इजाज़त नहीं थी.

इमेज कॉपीरइट Anna LeBaron
Image caption एना की बहनें रोमाना और फाये लाबरेन

एना बताती हैं कि पंथ में लड़कियों की जगह सबसे नीचे थी.

वो कहती हैं, 'वहां निश्चित तौर पर पितृसत्ता थी. लड़कियों को बहुपत्नी वाले पुरूष की पत्नी बनने के लिए तैयार किया जाता था. हमें शादी की उम्र तक आने के लिए इस बात के लिए तैयार कर दिया जाता था. लाबरेन परिवार में लड़कियों की शादी की उम्र 15 साल होती थी. इसलिए मैं 13 साल की उम्र में ही भाग गई.'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption एरविल लाबरेन

एना पहले नहीं जानती थीं कि उनके पिता एरविल लाबरेन एक शक्तिशाली, चमत्कारी व्यक्ति थे.

6 फुट 4 इंच लंबा ये व्यक्ति एफबीआई और मैक्सिकन पुलिस के लिए दोनों देशों में सिलसिलेवार हत्याओं के मामले में वॉन्टेड था.

वो शायद ही हिंसा में ख़ुद शामिल हुए हों. लेकिन एक पुराने प्रतिशोधी नबी की तरह वो अपने अनुयायियों को किसी को भी मारने के आदेश देते थे जिनमें उनकी ख़ुद की पत्नियां और बच्चे भी शामिल थे.

वो लोग भी थे जो भी उन्हें धरती पर ईश्वर के प्रतिनिधि के तौर पर चुनौती देते, जो पंथ छोड़ने की धमकी देते और अधिकारियों से उनके ख़िलाफ़ शिकायत करते.

  • एरविल मॉरेल लाबरेन चर्च ऑफ द लेम्ब ऑफ गॉड के संस्थापक थे जो मॉर्मन धर्म की एक शाखा थी.
  • उनकी 13 पत्नियां और 50 बच्चे थे.
  • उनके अनुयायियों के लिए वो ईश्वर के ताक़तवर और मज़बूत दूत थे जिन्हें धरती पर मॉर्मन विश्वास की शुद्धि के लिए भेजा गया था.
  • मीडिया के मुताबिक़ वो सोचते थे कि उन्हें दर्जनों लोगों की हत्या का आदेश दिया गया था.
  • चर्च लैटर डे सेंट्स ने 1950 के दशक में एरविल को निष्कासित कर दिया क्योंकि उन्होंने बहुविवाह जारी रखा, जिसका त्याग चर्च ने 1890 में कर दिया था.
इमेज कॉपीरइट Anna LeBaron
Image caption एना मार्सटन अपने बच्चों के साथ

एरविल को 1979 में मैक्सिकन पुलिस ने गिरफ़्तार किया और एफबीआई को सौंप दिया. उन्हें हत्या के मामले में उम्रक़ैद की सज़ा हुई. 1981 में जेल में ही उनकी मौत हो गई. लेकिन मौत के बाद भी उनकी दहशत बनी हुई थी. मौत के बाद भी उनकी लिस्ट में शामिल लोगों की हत्याएं होती रहीं.

एना 48 साल की हो चुकीं हैं और उन्हें लगता है कि ये ख़ूनी खेल अब ख़त्म हो गया है. उनकी किताब 'द पॉलीगेमिस्ट्स डॉटर' मार्च में प्रकाशित हो रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे