इराक़ में पश्चिमी मोसुल को आईएस से मुक्त करने के लिए जंग

इमेज कॉपीरइट Quentin Sommerville Twitter
Image caption मोसुल में इराक़ी सेना के साथ मौजूद बीबीसी के क्वेनटीन ने ये तस्वीर भेजी है.

इराक़ के प्रधानमंत्री हैदर अल अबादी ने कहा है कि मोसुल के पश्चिमी हिस्से को तथाकथित चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के कब्जे से छुड़ाने के लिए सैन्य कार्रवाई शुरू कर दी गई है.

मौजूदा साल की शुरुआत में सरकारी सेना और गठबंधन की फौजों ने मिलकर इराक़ में आईएस के आखिरी महत्वपूर्ण गढ़ मोसुल के पूर्वी इलाकों को आज़ाद कराया था.

कहा जा रहा है कि जहां तक पश्चिमी इलाके की बात है, तंग गलियों, रास्तों के कारण चरमपंथियों का मुक़ाबला कर पाना सरकारी सेना के लिए बड़ी चुनौती होगा.

इस बीच, संयुक्त राष्ट्र ने शहर में फंसे नागरिकों की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है, कहा जा रहा है कि इस इलाक़े में साढ़े छह लाख लोग फंसे हो सकते हैं.

इससे पहले, शहर के पश्चिमी हिस्से में नागरिकों के बीच बड़े हमले की चेतावनी वाली पर्चियां बांटी गईं.

मोसुलः इस्लामिक स्टेट के दमन का चेहरा

आईएस के शासन में कैसा है मोसुल में जीवन

पश्चिमी मोसुल से बीबीसी के क्वेनटीन समरविल ने ताज़ा कार्रवाई की कुछ तस्वीरें अपने ट्विटर हैंडल से पोस्ट की हैं.

इमेज कॉपीरइट Quentin Sommerville Twitter
Image caption मोसुल में इराक़ी सेना के साथ मौजूद बीबीसी के क्वेनटीन ने ट्वीट कर सारी जानकारी दी.
इमेज कॉपीरइट Quentin Sommerville Twitter
Image caption बीबीसी के क्वेनटीन मोसुल में इराक़ी सेना के साथ मौजूद हैं

अबादी ने टीवी पर दिए अपने भाषण में कहा, "हम चरमपंथियों को बाहर करने के अभियान के नए चरण की घोषणा करते हैं. हम जल्द ही मोसुल के पश्चिमी हिस्से पर हमला करने के लिए निनेह पहुंच रहे हैं."

प्रधानमंत्री मोसुल की राजधानी का जिक्र कर रहे थे.

समाचार एजेंसी एएफ़पी ने उनके प्रधानमंत्री के हवाले से बताया, "हम आईएस के आतंक से अपने नागरिकों को आजाद करने के लिए आजादी अभियान शुरू कर रहे हैं,"

मोसुल में इराक़ी सेना ने आईएस को घेरा

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पूर्वी मोसुल को साल की शुरुआत में सेना ने आईएस के कब्जे से आजाद करवाया था.
इमेज कॉपीरइट AP

इराक़ की फौज ने मोसुल के पश्चिमी हिस्से की घेराबंदी कर ली है. अमरीकी नेतृत्व वाली गठबंधन सेना ने आईएस के ठिकानों पर हवाई हमले शुरू कर दिए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे