तुर्कीः महिला सैनिक पहन सकेंगी हिजाब

  • 23 फरवरी 2017
इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अब पुलिस औऱ सैन्य महिलाएं पहन सकेंगी हिजाब

तुर्की में महिला सैनिक अब हिजाब पहन सकेंगी, सरकार ने हिजाब पहनने पर लगी पाबंदी हटा ली है.

तुर्की में सार्वजनिक संस्थानों में हिजाब पहनने पर 1980 से ही प्रतिबंध है.

इमेज कॉपीरइट AFP

सेना वो आख़िरी संस्था है जहां हिजाब पर लगी पाबंदी हटाई गई है.

हुर्रियत डेली न्यूज़ रिपोर्ट के मुताबिक़ नया नियम नियमित महिला सैन्य अधिकारियों, ग़ैर कमीशन अधिकारियों और महिला कैडेट पर लागू होगा.

हिजाब का रंग वर्दी जैसा होगा और टोपी के नीचे इसे महिलाएं पहन सकेंगी. हालाँकि चेहरा ढकने की इजाज़त नहीं होगी. सरकारी गजट में प्रकाशित होने के बाद यह आदेश लागू हो जाएगा.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption तुर्की में हिजाब बहस का बड़ा मुद्दा बन गया है

तुर्की में छिड़ी हिजाब पर बहस

हिजाब का मुद्दा तुर्की में कई सालों से बहस का विषय रहा है.

धर्मनिरेपक्षतावादी लोग हिजाब को धार्मिक रुढ़िवाद का प्रतीक मानते हैं . वो इसके ज़रिए राष्ट्रपति रचेप तैय्यप एर्दोआन पर इस्लामिक एजेंडा थोपने का आरोप लगाते हैं.

उनका ये भी आरोप है कि एर्दोआन 'पवित्र पीढ़ी' को बढ़ावा देने के संकल्प की आड़ में कई सरकारी स्कूलों को धार्मिक स्कूल बना रहे हैं.

राष्ट्रपति एर्दोआन का तर्क है कि हिजाब पर प्रतिबंध हमारे अतीत की निशानी का अनादर है.

पिछले 10 साल में स्कूलों , विश्वविद्यालयों, सिविल सर्विस और पिछले साल अगस्त में पुलिस विभाग में हिजाब ना पहनने का प्रतिबंध हटाया गया है.

ट्रंप के अमरीका में हिजाब पहन दिखाई ताकत

मैं हिजाब क्यों पहनती हूं?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption तुर्की में हिजाब पहनने वाली महिलाओं की संख्या बढ़ी

आधुनिक और रूढ़िवादी विचारधारा का टकराव

इस्तांबुल से बीबीसी के मार्क लोवेन का कहना है कि इस फ़ैसले के बाद तुर्की का धर्मनिरपेक्ष पक्ष ख़ुद को अलग-थलग महसूस कर रहा है.

राष्ट्रपति एर्दोआन पर आरोप लग रहा है कि वो रूढ़िवादिता और धार्मिकता के आधार पर सरकार चला रहे हैं.

बीबीसीहमारे संवाददाता का कहना है कि तुर्की में धार्मिक और धर्मनिरपेक्ष विचारधारा का टकराव पुराना है लेकिन अब इस पर पहले से कहीं ज़्यादा बहस होने लगी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)