विराट कोहली को 47 लाख देने पर उत्तराखंड में बवाल

इमेज कॉपीरइट Reuters

केदारनाथ आपदा राहत कोष से भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को लाखों रुपये के भुगतान के मुद्दे पर उत्तराखंड में बवाल मचा हुआ है.

भाजपा के युवा नेता और आरटीआई कार्यकर्ता अजेंद्र अजय को आरटीआई के जवाब में पता चला कि उत्तराखंड सरकार ने 60 सेकंड के एक वीडियो के लिए कोहली को 47 लाख रुपए से अधिक का भुगतान किया.

गायक कैलाश खेर की कंपनी के ज़रिए यह पैसा दिया गया.

दो साल बाद भी शेष हैं उत्तराखंड आपदा के निशां...

उत्तराखंड आपदा के अनसुलझे सवाल

उत्तराखंड: आपदा का वो पहला दर्दनाक हफ़्ता..

इमेज कॉपीरइट Rajesh Dobriyal
Image caption आरटीआई कार्यकर्ता अजेंद्र अजय ने हरीश रावत सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं

हालाँकि अंग्रेज़ी अख़बार टाइम्स ऑफ़ इंडिया के अनुसार, विराट कोहली के एजेंट ने इस तरह की राशि मिलने से इनकार किया है.

इस बीच, मुख्यमंत्री हरीश रावत ने शनिवार को देहरादून में कहा कि भुगतान पूरी तरह क़ानूनी है और वे कथित आपदा घोटालों की जांच सुप्रीम कोर्ट के जज से कराने के लिए तैयार हैं.

रावत ने इसके साथ यह शर्त जोड़ी कि पहले भाजपा लिखित में इसकी मांग करे.

इमेज कॉपीरइट AP

आरटीआई अर्जी डालने वाले भाजपा नेता अजय कहते हैं कि सरकार की मंशा आपदा पीड़ितों को राहत देने की थी ही नहीं, वह तो बस प्रचार पाना चाहती थी.

उन्होंने आरोप लगाया कि 2013 की आपदा में केदार घाटी में ही दो दर्जन पैदल पुल बह गए थे और चार साल में सरकार सिर्फ़ दो ही पुल बनवा पाई है.

अजय ने कहा कि हमेशा पैसे की कमी का रोना रोने वाली और केंद्र को कोसने वाली राज्य सरकार ने खेर और विराट कोहली पर पैसे फूंक दिए. उसे इसका कोई हक़ नहीं था.

मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार सुरेंद्र कुमार अग्रवाल इसे भाजपा की बौखलाहट क़रार देते हैं.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

उनका कहना है कि सरकार की प्राथमिकता न सिर्फ़ चार धाम यात्रा शुरू करने और इसे सुरक्षित ढंग से पूरी करवाने की थी, बल्कि यह संदेश भी देना था कि यात्रा सुरक्षित है.

सुरेंद्र ने कहा कि कैलाश खेर और विराट कोहली ही नहीं, सरकार लता मंगेशकर को भी इसमें शामिल करना चाहती थी ताकि दुनिया को संदेश जाए कि केदारनाथ आने में कोई डर नहीं.

उनका दावा है कि इस प्रचार के बाद ही रिकॉर्ड 15 लाख लोगों ने चारधाम की यात्रा की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)