तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान में की पेड़ लगाने की अपील

तालिबान इमेज कॉपीरइट AP

अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के नेता हैबतुल्ला अख़ुंदज़ादा ने अफ़ग़ानों से ज़्यादा से ज़्यादा पेड़ लगाने की अपील की है. अपने एक बयान में उन्होंने आम नागरिकों और लड़ाकों से पृथ्वी की ख़ूबसूरती और अल्लाह के लिए पेड़ लगाने की अपील की है.

अफ़ग़ानिस्तान वनों की कटाई की गंभीर समस्या से जूझ रहा है. यहां लकड़ियों को बेचने और जलाने के लिए पेड़ अवैध रूप से व्यापक पैमाने पर काटे जाते हैं.

पर्यावरण को लेकर इस तरह के बयान तालिबान की तरफ से विरले ही आते हैं. पिछले साल मई महीने में हैबतुल्ला को तालिबान का नया नेता बनाया गया था. तालिबान के नेता की साख एक धार्मिक नेता के रूप में एक सैन्य प्रमुख से ज़्यादा होती है.

अफ़ग़ानिस्तान में इस्लामिक स्टेट का कितना रौब

इमेज कॉपीरइट EPA

रविवार के इस ख़ास संदेश को तालिबान के कई केंद्रों से भी जारी किया गया है. यह बयान तालिबान की पहचान के बिल्कुल उलट है. तालिबान अफ़ग़ान सरकार और नेटो सहयोगियों के ख़िलाफ़ अपने आक्रामक बयान के लिए जाना जाता है.

मुल्ला मंसूर की मौत के बाद नया मुखिया

'तालिबान से बात करने का सही वक्त है'

तालिबान नेता ने अपने बयान में कहा है, ''पर्यावरण के बचाव में वृक्षारोपण की अहम भूमिका होती है. इसके साथ ही आर्थिक प्रगति और धरती को ख़ूबसूरत बनाने में भी वृक्षारोपण का ख़ास योगदान होता है.''

इसका उल्लेख अफ़ग़ान तालिबान वॉइस ऑफ़ जिहाद वेबसाइट पर भी है. तालिबान के नेता ने कहा है, ''वृक्षारोपण और कृषि से हमें भौतिक सुख तो मिलता ही है इसके साथ ही हमें जीवन के बाद भी इसका लाभ मिलता है.''

इमेज कॉपीरइट AFGHAN ISLAMIC PRESS
Image caption तालिबान के नेता हैबतुल्ला अख़ुंदजादा

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ़ गनी के प्रवक्ता शाह हुसैन मुर्तज़वी ने कहा कि तालिबान का यह बयान लोगों को धोखा देने के लिए है, ताकि तालिबान के अपराध और विनाशकारी रवैये से ध्यान हट सके.

अफ़ग़ानिस्तान: अफ़ीम के धंधे का क्या होगा

तालिबान अफ़ग़ानिस्तान में अफ़ीम की अवैध खेती में शामिल है. वह अपने नियंत्रण वाले इलाक़ों में इसे लेकर टैक्स भी लेता है.

तालिबान का 1996 से 2001 तक अफ़ग़ानिस्तान में शासन रहा. 2001 में अमरीकी नेतृत्व में अफ़ग़ानिस्तान से तालिबान को बेदख़ल किया गया. इसके बाद तालिबान के नेताओं को सरकार में शामिल होने का प्रस्ताव दिया गया, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)