ख़ुद की चार बीवियां, बहुविवाह का विरोध

इमेज कॉपीरइट Getty Images

"हमने उन मर्दों का हश्र देखा है, उनकी औक़ात नहीं है लेकिन चार-चार शादियां कर रखी हैं. वे 20 बच्चे पैदा कर लेते हैं. बच्चों को पढ़ा लिखा नहीं पाते हैं और सड़कों पर छोड़ देते हैं. ये बच्चे बदमाश या आतंकवादी बन जाते हैं."

ये कहना है नाइजीरिया के सबसे बड़े शहर कानो के अमीर मुहम्मद सनसुई का. ये बात दीगर है कि ख़ुद सनसुई चार बीवियों के शौहर हैं.

उन्होंने ये बातें उस देश में कही हैं, जहां एक से ज़्यादा शादियां करना आम है.

'अल्लाह के आदेश के ख़िलाफ़ बिल मंजूर नहीं'

नाइजीरिया: मस्जिद में धमाके

बोको हराम के चंगुल से निकली लड़कियां पहुंचीं घर

'एक बीवी ही काफ़ी'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption मुहम्मद सनसुई का मानना है कि चार बीवियां रखना किसी के बूते की बात नहीं

उत्तरी नाइजीरिया के शहरों और कस्बों में बच्चों को ट्रैफिक सिग्नल पर गाड़ियां घेरकर भीख मांगते देखा जा सकता है.

सनसुई के मुताबिक़, "ये बच्चे इस्लामी गुट बोको हराम के काम आते हैं."

उन्होंने प्रस्ताव पेश किया है कि क़ानून बना कर बहुविवाह पर रोक लगा देनी चाहिए.

वे कहते हैं, "एक बीवी ही काफ़ी है."

बहुविवाह की दिक़्क़तें

Image caption मोहम्मद बेलो अबू बक़र ने 86 महिलाओं से शादी की थी

सिविल मैरिज में किसी की एक ही बीवी हो सकती है. लेकिन इसमें प्रथा के मुताबिक़ शादी करने की भी व्यवस्था है.

नाइजीरिया में मोहम्मद बेलो अबू बक़र नामक शख़्स की 86 पत्नियां और 170 बच्चे थे. उनकी मौत कुछ दिन पहले ही हुई है.

वैसे इस्लाम में एक समय में चार बीवियां रखने की इजाज़त किसी पुरुष को नहीं है. यह कहा गया है कि कोई आदमी दूसरी शादी तभी करे जब वह सभी पत्नियों के साथ समान व्यवहार कर सकता हो.

'द पज़ल ऑफ़ मोनोगैमस मैरिज'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मुहम्मद सनसुई कानो को आधुनिक राज्य बनाना चाहते हैं

ब्रिटेन की रॉयल सोसाइटी ने साल 2012 में एक किताब छापी, जिसका नाम है, 'द पज़ल ऑफ़ मोनोगैमस मैरिज'. इसमें कहा गया है कि जिन समाजों में बहुविवाह की प्रथा है, वहां युद्ध, बलात्कार और डकैती का जोखिम ज़्यादा है.

सनसुई ने इस्लामी विद्वत परिषद को अपना प्रस्ताव दे दिया है. वो इसे मंजूर करती है तो कानो प्रांत की संसद को भेज देगी.

यदि कानो की संसद इस पर मुहर लगा देगी तो यह उन सभी राज्यों में लागू हो जाएगा, जहां शरिया क़ानून है.

शरिया क़ानून में घरेलू हिंसा पर भी रोक है और महिलाओं को शारीरिक चोट लगने पर मुआवजा देने की व्यवस्था है.

कानो को आधुनिक बनाने की मुहिम

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption कानो में साक्षरता दर काफ़ी कम है

पारिवारिक क़ानून के वकील इक न्वाबुफ़ो का मानना है कि सनसुई शरिया क़ानून को अधिक सख़्त बनाना चाहते हैं. वे इसे धर्म और संस्कृति के लिए अधिक महत्वपूर्ण बनाना चाहते हैं.

सनसुई साल 2014 में कानो का अमीर बनने के बाद से ही उस प्रांत को अधिक आधुनिक बनाने की मुहिम में जुटे हैं.

एक बार शिक्षकों की बैठक में उन्होंने कहा था कि मस्जिदों को स्कूल में तब्दील कर देना चाहिए. उन्होंने पूरी शिक्षा व्यवस्था को ही 'नाकाम' क़रार दिया था और अब वे पुरानी पंरपरा को बदलने की कोशिश कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)