बिटक्वाइन के आगे पहली बार सोने की चमक फीकी

  • 3 मार्च 2017
बिटक्वाइन इमेज कॉपीरइट Reuters

वर्चुअल मद्रा बिटक्वाइन का दाम पहली बार एक ओंस सोने की कीमत से ज़्यादा हो गया है.

गुरुवार को अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में एक बिटक्वाइन 1268 डॉलर पर बंद हुआ, जबकि एक ओंस सोने की क़ीमत 1233 डॉलर पर थी.

बिटक्वाइन की क़ीमत में ताज़ा बढोतरी की वजह चीन में बढ़ती मांग मानी जा रही है.

चीनी अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि बिटक्वाइन का इस्तेमाल पैसे को देश से बाहर भेजने के लिए किया जा रहा है.

2009 में लांच होने के बाद से इस वर्चुअल करेंसी के दाम में भारी उतार चढ़ाव आता रहा है.

पढ़ें- वर्चुअल बटुए की चुनौती

रूपया कमज़ोर लेकिन बिटक्वाइन बलवान

हालाँकि कई विशेषज्ञों ने इस वर्चुअल करेंसी के भविष्य पर भी सवाल उठाए हैं.

इसी साल चीनी अधिकारियों ने बिटक्वाइन में व्यापार रोकने के लिए छापेमार कार्रवाइयां की थीं.

इमेज कॉपीरइट EYEWIRE

क्या है बिटक्वाइन

बिटक्वाइन एक वर्चुअल मुद्रा है जिस पर कोई सरकारी नियंत्रण नहीं हैं.

इस मुद्रा को किसी बैंक ने जारी नहीं किया है. चूंकि ये किसी देश की मुद्रा नहीं है इसलिए इस पर कोई टैक्स नहीं लगता है.

बिटक्वाइन पूरी तरह गुप्त करेंसी है और इसे सरकार से छुपाकर रखा जा सकता है.

साथ ही इसे दुनिया में कहीं भी सीधा ख़रीदा या बेचा जा सकता है.

शुरुआत में कंप्यूटर पर बेहद जटिल कार्यों के बदले ये क्रिप्टो करेंसी कमाई जाती थी.

देखें- सिक्का जो दिखाई नहीं देता

चूंकि ये करेंसी सिर्फ़ कोड में होती है इसलिए न इसे ज़ब्त किया जा सकता है और न ही नष्ट किया जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक अनुमान के मुताबिक इस समय क़रीब डेढ़ करोड़ बिट क्वाइन प्रचलन में है.

बिटक्वाइन ख़रीदने के लिए यूज़र को पता रजिस्टर करना होता है. ये पता 27-34 अक्षरों या अंकों के कोड में होता है और वर्चुअल पते की तरह काम करता है. इसी पर बिटक्वाइन भेजे जाते हैं.

इन वर्चुअल पतों का कोई रजिस्टर नहीं होता है ऐसे में बिटक्वाइन रखने वाले लोग अपनी पहचान गुप्त रख सकते हैं.

ये पता बिटक्वाइन वॉलेट में स्टोर किया जाता है जिनमें बिटक्वाइन रखे जाते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे