'हम ट्रंप से ओबामा जैसा ही भरोसा चाहते हैं'

इमेज कॉपीरइट Mario Tama/Getty Images

सिएटल में एक पगड़ीधारी सिख पर हमले के बाद अमरीका में सिख समुदाय डरा हुआ है. डरना तो स्वाभाविक है.

इसके साथ ही समुदाय में इस बात की भी चिंता है कि इस तरह की घटनाओं और प्रचार से किस तरह निपटा जाए.

अमरीका के दूसरे समुदायों के साथ पारस्परिक संबंध कैसे विकसित किया जा सकता है? बातचीत को आगे कैसे बढ़ाया जा सकता है?

इस तरह की घटना से थोड़ी निराशा तो है. लेकिन वो इन चीजों से निपटने के बारे में सोच भी रहे हैं.

ये घटना केंट वॉशिंगटन नाम के एक छोटे से शहर में हुई. वहां शाम क़रीब आठ बजे एक सिख व्यक्ति अपनी कार पर कुछ काम कर रहा था.

अमरीका में पगड़ीधारी सिख पर हमला

दिलेर मददगार को भारत यात्रा का न्यौता

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
कैनसस में मारे गए श्रीनिवास को लोगों ने दी श्रद्धांजलि

इस दौरान एक व्यक्ति वहां पहुंचा और उन्हें गालियां देने लगा. इस पर सिख व्यक्ति ने उस व्यक्ति को समझाना चाहा. वह उन्हें अमरीका छोड़कर जाने के लिए कह रहा था.

इस बात पर विवाद बढ़ गया और दोनों हाथापाई करने लगे. इस दौरान गाली देने वाले व्यक्ति ने बंदूक निकाल कर सिख व्यक्ति के कंधे में गोली मार दी.

ट्रंप के बाद

मेरे पास ऐसा कोई आंकड़ा तो नहीं है जिसके आधार पर मैं कह सकूं कि ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद सिखों पर हमले की घटनाएं बढ़ी हैं या कम हुई हैं.

लेकिन जिस तरह से कैंसस में श्रीनिवास की गोली मारकर हत्या की गई और शुक्रवार शाम एक सिख को गोली मारकर घायल किया गया - इन घटनाओं को देखकर लग रहा है कि भारतीयों पर हमले की घटनाएं बढ़ रही हैं.

श्रीनिवास के अंतिम संस्कार में उमड़े लोग

ट्रंप की सद्बुद्धि के लिए 'वीज़ा मंदिर' में यज्ञ

इमेज कॉपीरइट ROBYN BECK/AFP/Getty Images

दूसरी बात यह है कि इसके पहले जब इस तरह की घटनाएं होती थीं तो राष्ट्रपति या प्रशासन की ओर से बहुत साफ़-साफ़ संदेश आता था कि इस तरह की घटनाएं स्वीकार नहीं हैं.

ऐसी हर घटना की कड़ी निंदा की जाती थी, लेकिन अब वैसा नहीं देखा जा रहा है.

राष्ट्रपति के मुंह से हम यह सुनना चाहते हैं कि अमरीकी नागरिक के रूप में हर दक्षिण एशियाई हिंदू, मुसलमान या सिख की ज़िंदगी भी किसी दूसरे नागरिक की ही तरह महत्वपूर्ण है.

लेकिन ऐसी बात हमें सुनने को नहीं मिल रही है. इससे हम निराश हैं. यह हमारी समझ से परे है कि प्रशासन इन घटनाओं पर चुप्पी क्यों साधे हुए है.

श्रीनिवास की हत्या की प्रशासन कड़े शब्दों में निंदा क्यों नहीं कर रहा है.

'अमरीका ने प्यार छीना, प्यार बांटने लौटूंगी'

ट्रंप सरकार से जवाब मांग रही है भारतीय विधवा

'मेरा पति मोदी और सुषमा का फ़ैन था'

भारतीय इंजीनियर के मारे जाने की निंदा की ट्रंप ने

अमरीका में भारतीय इंजीनियर की हत्या

(बीबीसी संवाददाता विभुराज से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे