चीन ने विकास दर का लक्ष्य घटाकर 6.5% किया

  • 5 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट AFP

दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था चीन ने अपनी विकास दर का अनुमानित लक्ष्य घटा दिया है.

चीनी प्रीमियर ली कचियांग ने घोषणा की है कि इस साल की विकास की दर साढ़े छह फ़ीसद से सात फ़ीसद की अनुमानित दर से कम क़रीब साढ़े छह फ़ीसद रहेगी.

वह बीजिंग में नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (एनपीसी) के वार्षिक अधिवेशन को संबोधित कर रहे थे. ग्रेट हाल ऑफ पीपुल में आयोजित इस बैठक में तीन हज़ार से अधिक सदस्य भाग ले रहे हैं.

चीन ने बढ़ाई सैन्य ताकत, भारत हुआ और पीछे

तो क्या भूमंडलीकरण के पक्ष में खड़ा होगा चीन?

चीनी अर्थव्यवस्था में पिछले 26 सालों में सबसे धीमी विकास दर पिछले साल दर्ज की गई.

भारत के केंद्रीय सांख्यिकी संगठन (सीएसओ) ने हाल ही में जो आंकड़े जारी किए उनके मुताबिक अक्टूबर से दिसंबर यानी कारोबारी वर्ष की तीसरी तिमाही के दौरान आर्थिक विकास दर सात फ़ीसदी रहने का अनुमान है. हालांकि ये दूसरी तिमाही के 7.4 फीसदी से कम है.

चीनी प्रीमियर ने एनपीसी में कहा कि बाज़ार की ज़रूरत को पूरा करने के लिए वो अधिक कोयले और इस्पाल का उत्पादन कर 'जांबी इंटरप्राइजेज़', जिसे राहत पैकेज की ज़रूरत हो, से निपटेंगे.

इसी तरह के वादे पिछले सालों में भी किए गए. लेकिन उन्हें पूरा नहीं किया गया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

एनपीसी और उसे सलाह देने वाली संस्था की हर साल औपचारिक बैठक होती है.

क्या चीन की अर्थव्यवस्था को ख़तरा है?

सुस्त पड़ी चीन और भारतीय अर्थव्यवस्था

चीनी प्रीमियर ने दुनिया की दूसरे नंबर की अर्थव्यवस्था की तुलना उस तितली से की जो कि पैसे की कमी से निपटने की कोशिश कर रही है.

उन्होंने कहा कि इस कायापलट को वादों के ज़रिए किया जाएगा. लेकिन इसमें दर्द भी बहुत होगा.

इमेज कॉपीरइट AP

इस अवसर पर उन्होंने कम्युनिस्ट पार्टी के नेता शी जिनपिंग का आभार जताया. उन्होंने कहा कि पार्टी के दृढ़ नेतृत्व में चीनी लोगों में परेशानियों से बहादुरी और चतुराई से पार पा लेने की क्षमता है.

चीन की परेशानियों में उन्होंने देश के अधिकांश इलाक़ों में छाई धुंध और कुछ सरकारी अधिकारियों की कामचोरी को गिनाया.

चीनी ने प्रीमियर ने अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की चीन की व्यापार नीति और विनिमय दर को लेकर शिकायतों का अप्रत्यक्ष रूप से हवाला दिया. उन्होंने आने वाले सालों में एक जटिल दुनिया की चेतावनी दी और कहा कि चीन संरक्षणवाद के बढ़ते ख़तरे का सामना कर रहा है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इस साल एनपीसी के वार्षिक अधिवेशन का आयोजन चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के अधिवेशन से पहले हो रहा है जिसे इसी साल आयोजित होना है.

इसी सम्मेलन में पार्टी प्रमुख शी जिनपिंग के दूसरे कार्यकाल पर मुहर लगाए जाने की संभावना है. इसके अलावा इसमें पार्टी के शीर्ष नेतृत्व में बदलाव की घोषणा भी की जा सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे