"नाजियों जैसा बर्ताव कर रहे हैं जर्मन अधिकारी"

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption तुर्की के राष्ट्रपति रिचप तैयप एर्दोआन

तुर्की के राष्ट्रपति रिचप तैयप एर्दोआन ने जर्मनी के अधिकारियों की तुलना नाज़ियों से की है.

उन्होंने कहा है, "आप जो व्यवहार कर रहे हैं वो इतिहास में दर्ज नाज़ियों के व्यवहार से अलग नहीं है."

एर्दोआन ने जर्मनी के कई शहरों में होने वाली रैलियों पर बैन लगाए जाने के बाद ये आरोप लगाये हैं. इन रैलियों में तुर्क नेता भाषण देने वाले थे.

तुर्की के 'निर्दयी' राष्ट्रपति अर्दोआन

ख़तरनाक दुनिया बना रहे हैं नेताओं के भड़काऊ भाषण

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption तुर्की के वित्त मंत्री निहत ज़ेबेकी

एर्दोआन इसी साल अप्रैल में देश के संविधान में अहम बदलाव लाने के बारे में जनमत संग्रह कराने वाले हैं. इस जनमत संग्रह में जर्मनी में रहने वाले 14 लाख तुर्क भी वोट दे सकते हैं.

इसमें वोटरों से सवाल किया जाएगा कि क्या वो देश में एक नए संविधान का समर्थन करेंगे जिसके तहत देश संसदीय गणतंत्र से राष्ट्रपति प्रशासित देश बन जाएगा.

बताया जा रहा है कि इसके बाद राष्ट्रपति के तौर पर एर्दोआन को उन्हें बजट, मंत्रियों और जजों की नियुक्ति और संसद को भंग करने संबंधी नई शक्तियां मिल सकती है.

तुर्की-जर्मनी में हमले, सोच बदलनी होगी: ट्रंप

तुर्की में धमाका, एक बच्चे की मौत

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption जर्मनी में कोलोन शहर में सिनेटर होटल के समने पुलिस तैनात है. इस होटल में आयोजित एक कार्यक्रम में निहत ज़ेबेकी भाषण देने वाले थे.

जर्मनी के कोलोन शहर में पुलिस की तैनाती कर दी गई है जहां तुर्की के वित्त मंत्री निहत ज़ेबेकी को एक सांस्कृतिक कार्यक्रम में बोलने के लिए आमंत्रित किया गया था. आयोजकों का कहना है कि जनमत संग्रह के काफी पहले इसके लिए व्यवस्था की गई थी.

अधिकारियों ने गैगानाउ और फ्रेख़न में होने वाली रैलियों की इजाज़त रद्द कर दी है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बीते साल हुए नाकाम तख़्ता पलट की कोशिशों के बाद अपने प्रतिद्वंदियों पर कठोर कार्रवाई के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय में एर्दोआन को काफी आलोचना झेलनी पड़ी है.

अर्दोआन के मोबाइल वीडियो संदेश का जादू

तुर्की: तख़्तापलट के विरोध में विशाल रैली

'जनता ने रोका तख़्तापलट'

एर्दोआन ने दर्जनों तुर्की पत्रकारों और लेखकों को गिरफ्तार कर लिया और बड़ी संख्या में राजनेताओं और सैनिकों को दूसरे देशों में पनाह लेनी पड़ी.

तुर्की ने बीबीसी संवाददाता को हिरासत में लिया

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे