अमरीकी वीज़ा पर ट्रंप का नया फरमान: 5 ख़ास बातें

डोनल्ड ट्रंप इमेज कॉपीरइट Reuters

मुसलमान बहुल देशों से अमरीका आनेवालों पर रोक लगाने संबंधित राष्ट्रपति ट्रंप के आदेश को पहले के मुक़ाबले कुछ हद तक नर्म माना जा रहा है लेकिन कई मानवाधिकार गुट अभी भी इसका कड़ा विरोध कर रहे हैं.

देखा जाए तो कम से कम पांच बातें हैं इस आदेश में जो पहले आदेश से अलग हैं.

6 देशों के लोगों को अमरीका नहीं देगा नया वीज़ा

अमरीकी वीज़ा था फिर भी उन्हें रोक दिया गया

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
ईरान ने कहा मुसलमान देशों के लोगों के लगी पाबंदी ही अमरीका का असली चेहरा है
  1. इस बार प्रतिबंधित देशों की सूची में छह देश हैं. विदेश विभाग और रक्षा मंत्रालय की सलाह पर इराक़ को इसमें नहीं शामिल किया गया है. फ़िलहाल ये आदेश सीरिया, लीबिया, ईरान, सोमालिया, सूडान और यमन पर लागू होगा.
  2. इस आदेश में इन देशों से आनेवालों के पास अगर पहले से ग्रीन कार्ड या वीज़ा है तो उन्हें नहीं रोका जाएगा. पिछली बार वीज़ाधारकों को भी रोका गया था जिसके बाद पूरी दुनिया में हंगामा मच गया था.
  3. सीरिया से आनेवाले शरणार्थी जिन्हें पहले से मंज़ूरी मिल चुकी है उन्हें नहीं रोका जाएगा और साथ ही सीरियाई शरणार्थियों पर भी दूसरे देशों से आनेवाले शरणार्थियों की तरह 120 दिन तक की रोक लागू होगी. पहले आदेश में ये रोक अनिश्चकालीन थी.
  4. इस बार ये आदेश फ़ौरन लागू किए जाने की बजाए दस दिनों के बाद यानी 16 मार्च से लागू होगा. माना जा रहा है कि इससे एयरपोर्ट्स पर अफरातफ़री को रोका जा सकेगा और तमाम एजेंसियां एक सुनियोजित योजना और तैयारी के साथ इसे अंजाम दे सकेंगी.
  5. इस बार प्रतिबंधित मुसलमान बहुल देशों से ईसाई शरणार्थियों को आने देने की छूट नहीं दी गई. माना जा रहा है कि ये इसलिए है कि कोई अदालत में ये चुनौती नहीं दे सके कि ये आदेश धर्म के आधार पर भेदभाव कर रहा है.
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
डोनाल्ड ट्रंप ने मुसलमानों के बारे में काफ़ी विवादस्पद बयान

पिछले आदेश के बाद कई रिपब्लिकंस ने भी इसकी ख़ासी आलोचना की थी लेकिन इस बार उनकी तरफ़ से काफ़ी हद तक एक मौन सहमति दिखी है.

वहीं मानवाधिकार गुटों का कहना है कि ये एक नए रूप में मुसलमानों पर लगाया गया प्रतिबंध है.

ऐमनेस्टी इंटरनेशनल का कहना है कि इससे हज़ारों परिवारों में डर और अनिश्चितता का माहौल पैदा होगा और ये आदेश एक बार फिर से मुसलमानों के खिलाफ़ नफ़रत को एक नीति की शक्ल देगा.

अमरीका जाना किधर चाहता है, उसे भी नहीं पता

तिब्बती खिलाड़ियों को अमरीकी वीज़ा से इनकार

एच-1बी वीज़ा के लिए भारत ने की लॉबिंग तेज़

ये आज़माइए 'ट्रंप' के दिल में जगह पाइए !

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)