मोसुलः सरकारी इमारतों पर सेना का कब्ज़ा

इमेज कॉपीरइट Reuters

इराक़ी सुरक्षाबलों का कहना है कि उन्होंने मोसुल के मुख्य सरकारी कार्यालय को फिर से अपने कब्ज़े में ले लिया है.

तथाकथित इस्लामिक स्टेट के चरमपंथियों से लड़ रही इराक़ी सेना ने कहा है कि उनकी सबसे तेज़-तर्रार टुकड़ी ने रातों रात अचानक हमला बोला.

इस सफलता से घनी आबादी वाले पुराने शहर पर हमले का रास्ता खुल सकता है, जहां काफ़ी आबादी है और समझा जाता है कि उनमें हज़ारों चरमपंथी भी मौजूद हैं.

इराक: मोसुल में 'पहला रासायनिक हमला'

इमेज कॉपीरइट AP

संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि पश्चिमी मोसुल में आठ लाख लोग रह रहे हैं.

मोसुल इराक़ में आईएस का आख़िरी गढ़ है.

बीते जनवरी में शहर के पूर्वी हिस्से पर सुरक्षा बलों ने कब्ज़ा कर लिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे