चीन ने उत्तर कोरिया से कहा बंद करो मिसाइल परीक्षण

  • 8 मार्च 2017
उत्तर कोरिया इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption उत्तर कोरिया की तरफ से जारी की गई मिसाइल परीक्षण की तस्वीरें

चीन ने उत्तर कोरिया को मिसाइल और परमाणु परीक्षण रद्द करने के लिए कहा है. चीन के इस क़दम से एक उभरते संकट के कम होने की उम्मीद जताई जा रही है.

चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि अमरीका और दक्षिण कोरिया वार्षिक सैन्य अभ्यास रोक सकते हैं. उत्तर कोरिया के भड़काऊ क़दमों से दक्षिण कोरिया अक्सर परेशान रहता है.

उत्तर कोरिया ने सोमवार को चार मिसाइलों का परीक्षण किया था. उसने यह परीक्षण अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों का उल्लंघन कर किया था. इसके बाद चीन की तरफ से यह अपील आई है. उत्तर कोरिया के इस क़दम के बाद अमरीका ने दक्षिण कोरिया में मिसाइल रक्षा प्रणाली की तैनाती शुरू कर दी थी.

उत्तर कोरिया ने दागी चार मिसाइलें, तीन जापान में गिरीं

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption दक्षिण कोरिया में तैनात अमरीकी मिसाइल प्रणाली

चीन की वार्षिक संसदीय बैठक से अलग बातचीत करते हुए वांग ने कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप 'तेज गति से आती हुई दो रेलगाड़ियां' हैं और दोनों एक दूसरे को साइड नहीं देना चाहतीं. उन्होंने पूछा कि क्या दोनों वाकई सीधी टक्कर के लिए तैयार हैं?

वांग ने कहा कि पारस्परिक रूप से सैन्य गतिविधियों को रोकना पहला क़दम होना चाहिए, जिससे तनाव को कम करने में मदद मिलेगी और बातचीत की शुरुआत हो पाएगी.

'चीन को कोई ख़तरा नहीं'

सोमवार को तीन उत्तर कोरियाई मिसाइल जापान के विशेष आर्थिक क्षेत्र (ईईज़ेड) के भीतर गिरी थीं. इसके बाद जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो अबे और अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा कि यह इलाक़ा एक नए संकट में प्रवेश कर रहा है.

उत्तर कोरिया: किम जोंग के भाई की हत्या की यह है कहानी

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने उत्तर कोरिया से की अपील

उत्तर कोरियाई क़दम की संयुक्त राष्ट्र संघ के सुरक्षा परिषद ने सर्वसम्मति से निंदा की थी. सुरक्षा परिषद की तरफ से बयान में कहा गया कि उत्तर कोरिया अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों का उल्लंघन कर इस इलाक़े को अस्थिर करने का जोखिम ले रहा है.

उत्तर कोरिया के 'एटम बम' में कितना दम?

इस मामले में सुरक्षा परिषद की बुधवार को बैठक होने वाली है. इसी बैठक में उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ कोई नया क़दम उठाया जाएगा. सुरक्षा परिषद उत्तर कोरिया पर नए प्रतिबंधों की घोषणा कर सकता है. हालांकि अमरीका दक्षिण कोरिया में मिसाइल रक्षा प्रणाली की तैनाती से पहले चीन को भरोसे में लेना चाहता है.

टर्मिनल हाई-एल्टिट्यूड एरिया डिफेंस सिस्टम (टीएचएएडी) दक्षिण कोरिया की सुरक्षा के लिए विकसित किया गया है. उत्तर कोरिया के मिसाइल हमले का मुक़ाबला करने के लिए इसे अमरीकी सैनिक संचालित करेंगे. उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण के बाद मंगलवार को इसे हरकत में लाया गया था.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption उत्तर कोरिया पर अहम है चीन की विदेश नीति

आख़िर टीएचएएडी क्या है?

  • यह मिसाइल को उड़ान के दौरान टर्मिनल फेज में ही मार गिराता है.
  • यह हिट-टु-किल टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करता है. वह आने वाली बमबारी को बीच में ही नष्ट कर देता है.
  • इसका रेंज 200 किलोमीटर है और 150 किलोमीटर की ऊंचाई तक जा सकता है.
  • अमरीका ने इस मिसाइल प्रणाली की तैनाती पहले गुआम और हवाई में की थी.
इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption जापान और दक्षिण कोरिया के साथ है अमरीका

टीएचएएडी की तैनाती को लेकर सहमति ओबामा प्रशासन के कार्यकाल में ही बनी थी. तब भी यह विवाद का विषय था. इस मिसाइल प्रणाली की जहां तैनाती है उससे वहां रह रहे दक्षिण कोरियाई नागरिकों के लिए भी ख़तरा है.

चीन का कहना है कि इस प्रणाली से अमरीकी सैन्य शक्ति का अतिक्रमण बढ़ेगा. इसी मामले में अमरीकी स्टेट डिपार्टमेंट के प्रवक्ता मार्क टोनर ने चीन को आश्वस्त किया था कि उसे कोई ख़तरा नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे