काबुल के सैन्य अस्पताल पर हमला, 30 मौंतें

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty
Image caption चार सौ बिस्तर वाले अस्पताल में सुरक्षा बलों और चरमपंथियों के बीच मुठभेड़

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल के सबसे बड़े सैनिक अस्पताल पर बंदूकधारियों ने हमला किया है. इस हमले में 30 लोग मारे गए हैं.

अफगान रक्षा मंत्रालय के अनुसार हमलावरों ने सैन्य अस्पताल के मुख्य द्वार पर एक आत्मघाती हमले के बाद कुछ हमलावरों ने इमारत के अंदर प्रवेश किया और वहाँ के स्टाफ व मरीज़ो पर गोलियां चलानी शुरु कर दीं.

हमले के बाद कमांडो हेलीकॉप्टर से अस्पताल की छत पर उतरे और घंटों चले संघर्ष के दौरान चार चरमपंथी मारे गए.

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि हमलावर डॉक्टरों के लिबास में थे. अधिकारियों का कहना है कि सभी मरीजों को निकाल लिया गया है.

इमेज कॉपीरइट EPA

चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है. तालिबान ने इस घटना में अपनी किसी भूमिका से इनकार किया है.

अफ़ग़ानिस्तान में धमाका, तालिबान ने ली ज़िम्मेदारी

अफ़ग़ानिस्तान में 6 रेड क्रॉस कर्मियों की हत्या

अफ़ग़ानिस्तान की तलवारबाज़ हसीनाएं....

अस्पताल के एक कर्मचारी ने बीबीसी से कहा कि उन्होंने सरदार दाऊद अस्पताल के मुख्य दरवाजे पर एक धमाका सुना.

इसके बाद वहां गोलीबारी शुरू हो गई.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty

डॉक्टर का कोट पहने बंदूकधारी

अस्पताल के एक डॉक्टर ने बताया कि उन्होंने देखा कि एक बंदूकधारी अस्पताल में पहने जाने वाले कोट में था. उसने कोट के अंदर से बंदूक निकाली और गोलियां बरसानी शुरू कर दी.

चार सौ बिस्तरों वाला यह अस्पताल अमरीकी दूतावास के पास ही है.

अस्पताल से बच निकलने में कामयाब रहे डॉक्टर अब्दुल क़ादिर ने कहा, "सफ़ेद कोट पहने हुए एक बंदूकधारी ने मुझ पर गोलियां चलाईं, मैं सीढ़ियों से नीचे कूद गया. तब उसने मेरे एक दूसरे सहकर्मी पर गोलियां चलाईं."

'ख़ून का बदला लेंगे'

इमेज कॉपीरइट Reuters

राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी ने कहा कि "इस हमले ने तमाम मानवीय मूल्यों को कुचल दिया."

उन्होंने कहा, "सभी धर्मों में अस्पताल को महफ़ूज समझा जाता है और इस पर हमला पूरे अफ़ग़ानिस्तान पर हमला है."

अफ़ग़ानिस्तान के दूसरे नंबर के नेता अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने भी इस हमले की कड़ी निंदा की है.

उन्होंने अपने ट्विटर एकाउंट पर "लोगों के ख़ून का बदला लने की कसमें खाई हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे