महिला दिवस पर अमरीका में महिलाओं की हड़ताल

  • 9 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर दुनिया के कई देशों में महिलाएँ हड़ताल, रैलियाँ और प्रदर्शन कर रही हैं.

अमरीका में 'डे विदाउट अ वूमैन' नाम की एक मुहिम के समर्थन में महिला सांसदों ने भी हड़ताल की. इस मुहिम का मक़सद अमरीका में काम करने वाले लोगों के बीच महिला कामगारों की अहमियत को उजागर करना है.

वहाँ माना जा रहा है कि हज़ारों महिलाएँ काम पर नहीं आएँगी या ख़र्च नहीं करेंगीं ताकि अर्थव्यवस्था में महिलाओं की ताक़त को महसूस करवाया जा सके.

ब्लॉग: महिला पत्रकार और जंग का मैदान - "नामुमकिन है!"

वो औरत जिन्होंने विदेश में पहली बार फहराया भारत का झंडा

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption इटली के फ़्लोरेंस शहर में प्रदर्शन

अमरीका में न्यूयॉर्क, फ़िलाडेल्फ़िया, बाल्टीमोर, मिलवॉकी, वाशिंगटन, बर्कले, और कैलिफ़ोर्निया में रैलियों की तैयारी की गई है.

कई जगहों पर दफ़्तरों और व्यवसायों ने ख़ुद ही महिलाओं को रैलियों में जाने के लिए छुट्टी दी है.

अमरीका के कुछ हिस्सों में महिला कर्मचारियों के हड़ताल करने के कारण स्कूलों को बंद करने पर मजबूर होना पड़ा.

इमेज कॉपीरइट AFP

आयरलैंड के गर्भपात क़ानून का विरोध

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर दुनिया के कई देशों में प्रदर्शन हो रहे हैं.

आयरलैंड में महिलाओं ने गर्भपात क़ानून के विरोध में देश भर में हड़ताल की और काले कपड़े पहने.

लंदन, एम्सटर्डम और कई अन्य शहरों में भी आयरिश क़ानूनों में बदलाव किए जाने की माँग के समर्थन में प्रदर्शन हुए.

पोलैंड में महिलाओं ने हिंसा, समान अधिकार और सम्मान की माँग के साथ रैलियाँ कीं और जुलूस निकाले.

इमेज कॉपीरइट Reuters

केवल महिला चालकों वाली उड़ानें

जर्मनी में लुफ़्थांसा एयरलाइन ने कहा कि महिला दिवस पर महिला अधिकारों के समर्थन में छह उड़ानें ऐसी होंगी जिनमें चालक दल की सारी सदस्य महिलाएँ होंगी. लुफ़्थांसा के पायलटों में केवल 6% महिला पायलट हैं.

स्वीडन में महिला फ़ुटबॉल टीम ने अपनी जर्सियों के पीछे नामों की जगह ऐसी स्वीडिश महिलाओं के ट्वीट छापे जिन्होंने 'अपने क्षेत्रों में मुक़ाम हासिल करने के लिए संघर्ष किया है'.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption इंडोनेशिया में महिलाओं का प्रदर्शन

आइसलैंड बना पहला देश

आइसलैंड में सरकार ने कहा है कि वो नौकरिया देनेवालों के लिए ये अनिवार्य कर देंगी कि वो कर्मचारियों को लिंग, जातीयता, सेक्सुऐलिटी या राष्ट्रीयता के आधार पर भेदभाव किए बिना समान वेतन देंगीं. आइसलैंड ऐसा एलान करनेवाला पहला देश है.

फ़िनलैंड में सरकार ने 150,000 यूरो के एक नए पुरस्कार का एलान किया जो समानता का अधिकार दिलाने में योगदान करने के लिए दिया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption तुर्की में महिला प्रदर्शनकारी

छोटे से देश मॉन्टेनिग्रो में तीन या उससे ज़्यादा बच्चों की माँओं को सरकारी सहायता में कटौती किए जाने के विरोध में प्रदर्शन हुए.

रोमानिया में महिलाओं ने ज़मीन पर लेटकर घरेलू हिंसा में मारी गई महिलाओं के नामों को पुकारा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे