सीआईए लीक्स मामले की आपराधिक जांच होगी

  • 9 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट CENTRAL INTELLIGENCE AGENCY

विकीलीक्स द्वारा सीआईए के हैकिंग उपकरणों से संबंधित हज़ारों दस्तावेज़ सार्वजनिक किए जाने के मामले की आपराधिक जांच शुरू हो गई है.

अमरीकी अधिकारियों ने बताया कि अमरीकी संघीय जांच एजेंसियां एफ़बीआई और सीआईए संयुक्त रूप से जांच करेंगी.

इन दस्तावेज़ों में दावा किया गया है कि सीआईए ने ऐसे तरीक़े खोज निकाले हैं जिससे स्मार्टफ़ोन और टीवी माइक्रोफ़ोन्स के ज़रिये जासूसी की जा सकती है.

"टीवी, स्मार्टफोन सब हैं सीआईए के जासूस"

विकीलीक्स के इन 5 दांवों ने मचाई थी सनसनी

बीते मंगलवार को लीक हुए इन दस्तावेज़ों की सत्यता के बारे में सीआईए, एफ़बीआई और व्हाइट हाउस ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया था.

बुधवार को सीआईए के प्रवक्ता ने बीबीसी से कहा था, "इस तरह की जानकारियां केवल अमरीकी सैनिकों और अभियानों को ही संकट में नहीं डालते, बल्कि हमें नुकसान पहुंचाने के लिए दुश्मनों को भी ऐसे उपकरणों और सूचनाओं से लैस करते हैं."

इमेज कॉपीरइट EPA

बुधवार को नाम ना ज़ाहिर करते हुए अमरीकी अधिकारियों ने कहा था कि आपराधिक जांच में पता लगाया जाएगा कि ये फ़ाइलें विकीलीक्स के पास पहुंचीं.

अधिकारियों ने कहा कि इस जांच में ये भी पता लगाने की कोशिश होगी कि आखिर ये खुलासा सीआईए के अंदर से हुआ है या बाहर से.

ये दस्तावेज़ 2013 से 2016 के बीच के बताए जा रहे हैं. हालांकि सीआईए ने इन दस्तावेज़ों की सत्यता की पुष्टि नहीं की है.

सुरक्षा को लेकर चिंता

सीआईए के एक पूर्व निदेशक माइकल हेडेन ने बीबीसी से कहा, "जो हमने पढ़ा अगर वो सही है तो यह सीआईए के वैध विदेशी ख़ुफ़िया अभियानों में इस्तेमाल होने वाले उपकरणों, तकनीकों और प्रक्रियाओं के लिहाज से अपूर्णीय क्षति मालूम होती है."

उनके अनुसार, "इसने हमारे देश और मित्र देशों को और असुरक्षित बना दिया है."

इमेज कॉपीरइट SAMSUNG

बुधवार को उन टेक्नोलाजी कंपनियों ने प्रतिक्रिया दी जिनके उपकरणों में कथित रूप से सीआई ने सेंध लगाई है.

एप्पल ने कहा, "आज के आईफ़ोन में जो टेक्नोलॉजी इस्तेमाल हो रही है वो उपभोक्ताओं को उपलब्ध डाटा सुरक्षा में सबसे उम्दा है. हम लगातार इसे और मज़बूत कर रहे हैं."

निशाने पर टीवी और एड्रायड फ़ोन

सैमसंग एफ़ 8000 सिरीज़ के टेलीविज़न सेटों की सुरक्षा में कथित रूप से सेंध लगाई गई थी. कंपनी का कहना है, "उपभोक्ताओं की निजता और हमारे उपकरणों की सुरक्षा कंपनी की सर्वोच्च प्राथमिकता है."

सार्वजनिक दस्तावेज़ों में दावा किया गया है कि सीआईए ने माइक्रोसॉफ़्ट विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल करने वाले निजी कम्प्यूटरों को निशाना बनाने के लिए मालवेयर बनाया था.

माइक्रोसॉफ़्ट ने कहा है, "हम इस ख़बर से वाक़िफ़ हैं और इसकी जांच कर रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट Google

एंड्रायड फ़ोन में घुसपैठ करने और उन्हें नियंत्रित करने के दावे पर गूगल की प्रतिक्रिया थी, "हमें पूरा भरोसा है कि क्रोम और एंड्रायड में जो सुरक्षा उपाय और अपडेट किये जा रहे हैं वो इन कथित ख़तरों से मुकाबला करने में सक्षम हैं."

विकीलीक्स का दावा है कि पिछले साल सीआईए ने "ज़ीरो डे" नाम से 24 एंड्रॉयड हथियार बनाए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे