चीन में भारतीय महिला पर हमला

  • 10 मार्च 2017
लीना जरियाल इमेज कॉपीरइट SUNIL JARIYAL
Image caption बताया जा रहा है कि लीना जरियाल के सिर पर कई बार डंडे से मारा गया

चीन के शंघाई शहर के एक भीड़ भरे इलाक़े में बृहस्पतिवार को एक भारतीय महिला लीना जरियाल पर हमला हुआ है.

लीना के पति सुनील जरियाल ने आशंका जताई है कि यह एक तरह का 'हेट क्राइम' हो सकता है.

हालाँकि चीन में अब तक भारतीयों के ख़िलाफ़ किसी तरह के नस्लभेदी हमले की वारदात नहीं हुई है.

पुलिस ने हमलावर को गिरफ़्तार कर लिया है और कहा है कि वो मानसिक तौर पर विक्षिप्त लग रहा है.

भारतीय पर हमला: पुलिस अफ़सर ग़िरफ़्तार

कैंसस हमले से हिले हुए हैं अमरीका में भारतीय

ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्र पर हमला, एक गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट SUNIL JARIYAL
Image caption शंघाई शहर में इसी जगह लीना पर हुआ हमला

डंडे से हमला

लीना के पति सुनील जरियाल ने बीबीसी संवाददाता मोहन लाल शर्मा से कहा, "लीना अपनी ड्यूटी ख़त्म कर मेडिकल जांच के लिए जा रही थीं और एक सड़क पर ट्रैफ़िक सिग्नल के हरे होने का इंतज़ार कर रही थीं. उसी समय एक चीनी शख़्स वहां आया. उसके हाथ में डंडा था. उसने लीना को डंडे से पीटना शुरू कर दिया. उसने सिर पर कई बार डंडे मारे.''

इमेज कॉपीरइट SUNIL JARIYAL
Image caption चोट इतनी गहरी थी कि इस अस्पताल के आईसीयू में लीना को भर्ती कराना पड़ा

उन्होंने कहा कि लीना ने पास में ही खड़े पुलिस वाले से मदद की गुहार लगाई पर किसी ने कोई मदद नहीं की. इसके बाद लीना को ख़ुद ही घायल अवस्था में अस्पताल जाना पड़ा.

उनके मुताबिक बाद में अस्पताल वालों ने ही पुलिस को बुलाया जिन्होंने हमलावर को गिरफ़्तार कर लिया.

लीना शंघाई के एक अस्पताल में आईसीयू में भर्ती थीं जहाँ उपचार के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई है.

इमेज कॉपीरइट SUNIL JARIYAL
Image caption सुनील जरियाल 10 साल से चीन में रह रहे हैं

लीना जरियाल केरल की हैं. वह अपने पति और दो बच्चों के साथ एक दशक से चीन में रह रही हैं.

सुनील जरियाल ने कहा, "हम चीन में पिछले 10 साल से हैं. हमने कभी सोचा नहीं था कि इस तरह कोई हमला कर सकता है. किसी तरह का कोई उकसावा नहीं था. उस आदमी से कोई जान पहचान नहीं थी.''

उनके दोस्तों और परिजनों ने ट्विटर पर भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मदद की गुहार लगाई थी जिसके बाद भारतीय दूतावास के अधिकारी उनका हाल-चाल पूछने अस्पताल पहुँचे और हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे