क्या यूरोपीय देशों में एशियाई मूल के लोगों के साथ नस्लभेद होता है?

  • 12 मार्च 2017
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बातचीत के दौरान बच्चे बीच में आ गए

बीते दिनों बीबीसी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया.

अंतरराष्ट्रीय संबंध के प्रोफ़ेसर रॉबर्ट केली अपने घर से ही टेलीविज़न पर लाइव बोल रहे थे कि उनके दो बच्चे भी उसी कमरे में आ गए.

केली बोल रहे थे और पीछे से उनके बच्चे भी कैमरे में दिख रहे थे. उन्होंने किसी तरह अपना संयम बनाए रखा और बोलते रहे. ख़ैर. उसी समय एक महिला वहां आईं और उन दोनों बच्चों को जल्दी से उस कमरे से ले गईं.

प्रवासी भारतीय, देसी आंटियां और पॉप आर्ट

मैरिटल रेप' पर क़ानून तो है पर मुश्किल है राह

ब्रिटेन में भारतीय छात्र 50 फ़ीसदी घटे

वो प्रोफ़ेसर साहब की बीवी जुंग अ किम थीं. जुंग, एशियाई मूल की हैं.

लेकिन ज़्यादातर लोगों ने मान लिया कि वे प्रोफ़ेसर केली के घर काम करने वाली और बच्चों की देखभाल करने वाली आया थीं.

लोगों ने ऐसा क्यों सोचा?

इमेज कॉपीरइट TWITTER/BBCNEWS

एक आदमी ने ट्वीट कर कहा, "वे उनकी पत्नी हैं, नौकरानी नहीं."

एक दूसरे आदमी ने कहा, "उनका नाम जुंग अ किम है."

एक आदमी ने ट्विटर पर लिखा, "क्या आप ग़लत निष्कर्ष पर पहुंचे हैं? हम इस पर हंस सकते हैं और अपने पूर्वाग्रहों के बारे में सीख भी सकते हैं."

ग़लत निष्कर्ष

इमेज कॉपीरइट JONATHAN SMITH
Image caption अलग अलग नस्लों की होने की वजह से टिफ़ैनी वोंग और जोनाथन स्मिथ को भेद भाव का सामना करना पड़ा

कुछ लोगों ने तर्क दिया कि उनकी भाव भंगिमा और चेहरे पर छाई घबराहट की वजह से लोगों ने ऐसा सोचा.

लेकिन, इसके उलट तर्क यह है कि सीधा प्रसारण के दौरान बच्चों के वहां घुस आने से मां के चेहरे पर घबराहट बिल्कुल स्वाभाविक है.

तो लोगों ने उन्हें आया इसलिए सोच लिया कि वे एशियाई मूल की हैं?

किम को आया मानने की एक बड़ी वजह यह है कि लोग यह मान कर चलते हैं कि लोगों को अपने समुदाय में ही शादी ब्याह करनी चाहिए.

मैं जब लंदन में पढ़ रहा था, मेरे ब्रितानी-चीनी होने की वजह से लोगों ने मान लिया था कि मैं वहां डॉक्टरी या अर्थशास्त्र पढ़ रहा हूं. सच तो यह है कि मैं वहां अंग्रेज़ी साहित्य का छात्र था.

पत्रकार को समझा सफ़ाई करने वाली

इमेज कॉपीरइट IMTPHOTO
Image caption चीनी मूल के छात्र को मेडिकल या अर्थशास्त्र का विद्यार्थी मान लिया जाता है

भारतीय मूल की एक पत्रकार का कहना है कि वे जब एक क्षेत्रीय अख़बार गईं तो वहां रिसेप्शन पर बैठी महिला ने उन्हें साफ़ सफ़ाई करने वाली मान लिया था.

जापानी मूल की शिक्षाविद कुमिको तोदा ने अपना अनुभव बताते हुए कहा कि ब्रिटेन में बड़ी होने, पढ़ी लिखी होने और ब्रितानी लहजे में अंग्रेज़ी बोलने के बावजूद लोग उनसे पूछते थे कि वे कहां से आई हैं.

टिफ़ैनी वोंग और जोनाथन स्मिथ को तो कुछ लोगों ने परेशान सिर्फ़ इसलिए किया के उनमें एक ब्रितानी और दूसरा चीनी था.

स्मिथ कहते हैं कि वे जब लोगों को बताते थे कि उनकी प्रेमिका कॉकेसियन नहीं चीनी मूल की है तो उन्हें अचरज होता था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे