न्यूड फ़ोटो स्कैंडल में तय होगी जवाबदेही: अमरीकी नौसेना प्रमुख

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीकी नौसेना प्रमुख ने कहा है कि अपने महिला सहकर्मियों की न्यूड तस्वीरें ऑनलाइन शेयर करने को लेकर जवाबदेही तय की जाएगी.

सीनेट कमेटी के सामने दिए बयान में जनरल रॉबर्ट नेलर ने मरीन कल्चर को बदलने का वादा किया.

पिछले हफ्ते ऐसी रिपोर्टें सामने आई थीं जिससे पता चला कि नौसेना के पुरुष कर्मचारी ही अपनी महिला सहकर्मियों की न्यूड तस्वीरें फ़ेसबुक में साझा कर रहे थे और मैसेज कर रहे थे.

घटना सामने आने के बाद इसकी जांच के आदेश दिए गए थे.

'26 हज़ार अमरीकी सैनिक यौन शोषण के शिकार'

अमरीकी सैनिकों ने महिला सहकर्मियों की नंगी तस्वीरें पोस्ट की, जांच शुरू

लेकिन सीनेट पैनल की महिला सदस्यों ने नेलर के वादे पर उनकी खिंचाई की.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अमरीकी नौसेना प्रमुख नेलर ने 'मरीन कल्चर' में बदलाव का वादा किया.

न्यूयॉर्क से सीनेटर क्रिस्टन गिलिब्रैंड ने कहा कि यौन हमले और उत्पीड़न के आरोप लंबे समय से सामने आ रहे हैं लेकिन सेना ने इसे हल करने की कोई कोशिश नहीं की.

उन्होंने 2013 की उस घटना का ज़िक्र किया जिसमें मरीन्स में इसी तरह के ऑनलाइन शोषण के आरोप लगे थे.

उन्होंने कहा, "जब आप बदलाव की बात करते हैं, तो आपके दावे खोखले नज़र आते हैं."

ये तस्वीरें मरीन्स यूनाइटेड नाम के ग्रुप में ही पोस्ट की गई थीं जिनके साथ भद्दे और आक्रामक सेक्शुअल संदेश भी थे.

इस ग्रुप में 30 हज़ार वर्तमान और सेवानिवृत्त पुरुष मरीन सदस्य हैं. इसे अब बंद किया जा चुका है.

नेलर ने कहा कि नेवल क्रिमिनल इनवेस्टिगेशन सर्विसेज इस स्कैंडल की जांच कर रहा है.

उन्होंने आशंका जताई कि इस घटना से महिला भर्ती पर असर पड़ेगा.

नेलर ने कहा कि इस मामले बहुत कम संख्या में महिलाएं आगे आई हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस घटना को पूर्व मरीन थॉमस ब्रेनन द्वारा संचालित एक मीडिया संस्था द वॉर हॉर्स ने उजागर किया था.

द वॉर हॉर्स के अनुसार, फ़ेसबुक ग्रुप में सदस्यों को ऐसी तस्वीरें तलाशने और उन्हें पोस्ट करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता था.

यही नहीं ग्रुप के सदस्य उस महिला के नाम, उनके रैंक और यूनिट की पहचान भी सार्वजनिक करते थे.

तस्वीरें साझा करने की शुरुआत उसी महीने हुई जब पहली यूएस मरीन इनफैंट्री यूनिट में महिलाओं की भर्ती शुरू हुई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे