बिना फ़िरौती के लुटेरों ने छोड़ा जहाज़

  • 17 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट MOHAMED DEEQ-SBC
Image caption अभी ये पता नहीं चल सका है कि टैंकर अगवा करनेवाले मछुआरे थे या समुद्री लुटेरे

अधिकारियों के मुताबिक एक तेल टैंकर को अगवा करनेवाले सोमाली लुटेरों ने बिना किसी फ़िरौती के उसे छोड़ दिया है.

एक नाव को लेकर लुटेरों और नौसेनिकों के बीच हुई गोलीबारी के घंटों बाद ये ख़बर मिली है.

समझा जा रहा था कि उस नाव में लुटेरों के लिए रसद थी.

जीबुती से सोमालिया की राजधानी मोगादिशू जा रहे तेल टैंकर पर लुटेरों ने बीते सोमवार को कब्ज़ा कर लिया था.

इस टैंकर पर श्रीलंका के आठ नाविक सवार थे.

सोमालियाई लुटेरों को जन्नत में जेल

2012 के बाद सोमालिया के समुद्र तट के क़रीब हुई अपहरण की ये पहली घटना है.

पंटलैंड मैरीटाइम पुलिस फ़ोर्स के महानिदेशक अब्दुर्रहमान महमूद हसन ने कहा, "गोलीबारी के बाद से ही बातचीत चल रही थी. हमने अपनी सेना पीछे हटा ली और फिर लुटेरे चले गए."

समाचार एजेंसी रॉयटर के मुताबिक एक लुटेरे ने पुष्टि की है कि तेल टैंकर को बिना किसी फ़िरौती की रकम लिए छोड़ा गया है.

बीबीसी को जानकारी मिली है कि गुरुवार को हुई गोलीबारी में चार लोग ज़ख्मी हुए हैं.

अत्यंत संगठित हैं सोमालियाई लुटेरे

तेल लेकर जा रहा टैंकर संयुक्त अरब अमीरात का है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption हाल के वर्षों में सोमालिया के समुद्र में लूट और अगवा किए जाने की घटनाओं में कमी आई है

बुधवार को यूरोपीय संघ के एंटी पायरेसी नेवल फ़ोर्स ने कहा था कि लुटेरों ने फ़िरौती की मांग की है.

हाल के वर्षों में सोमालिया के तट पर समुद्री लूट के वारदातों में कमी आई है.

इसकी वजह है समुद्र में अंतरराष्ट्रीय सेना की चौकसी और गश्ती और स्थानीय मछुआरा समुदायों से मिलनेवाला सहयोग.

सोमालियाई लुटेरों ने भारतीय नाव अगवा की

साल 2011 में जब समुद्री लूट का संकट चरम पर था तब लुटेरों के 237 हमले हुए थे और लूट का सालाना पैमाना क़रीब आठ अरब डॉलर आंका गया था.

साल 2015 में सोमालियाई अधिकारियों ने चेतावनी दी थी कि अगर अंतरराष्ट्रीय समुदाय नौकरियों के अवसर पैदा करने में मदद नहीं करेगा तो समुद्री लूट की वापसी हो सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)