ब्राज़ील: सड़ा बीफ़ निर्यात करती थीं कंपनियां

इमेज कॉपीरइट AFP

सड़े हुए बीफ़ और मुर्गी का मांस बेचने का आरोप लगने के बाद ब्राज़ील में 33 अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है.

तीन मांस प्रसंस्करण संयंत्रों को बंद कर दिया गया है. ऐसे 21 संयंत्रों पर निगरानी रखी जा रही है.

केरल में 'बीफ़ फ्राई' के दीवाने लोग

बीफ़ बैन से टूट गई कोल्हापुरी

'बीफ़, गौरक्षा मुद्दा छोड़ें मोदी तभी बढ़ेगी रैंकिंग'

ज़्यादातर मांस यूरोप और दुनिया के दूसरे हिस्सों को निर्यात किए गए थे.

ब्राज़ील 'रेड मीट' का दुनिया का सबसे बड़ा निर्यातक देश है.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption जेबीएस बीफ़ निर्यात करने वाली दुनिा की सबसे बड़ी कंपनी है

कृषि मंत्री ब्लेयरो मजाई सोमवार को राजदूतों से मिल कर उन्हें आश्वस्त करेंगे ताकि ब्राज़ील के मांस निर्यातकों पर रोक न लगे.

ब्राज़ील की 30 कंपनियों पर कई अस्वस्थ तौर तरीके अपनाने के आरोप लगे हैं. इनमें दुनिया का सबसे बड़ा बीफ़ निर्यात जेबीएस और मुर्गी मांस का सबसे बड़ा निर्यातक बीआरएफ़ भी शामिल हैं.

जेबीएस का सालाना कारोबार 55 अरब डॉलर है और यह 150 देशों में फैला हुआ है.

सरकार ने दो साल की जांच के बाद शुक्रवार को छह राज्यों में विशेष अभियान 'ऑपरेशन वीक फ़्लेश' शुरू किया था.

पुलिस ने कहा कि कई बार कंपनियां मांस के असली स्वरूप को छिपाने के लिए एसिड और दूसरे रसायनों का इस्तेमाल करती थीं.

कई मामलो में आलू, पानी और काग़ज तक मांस के साथ मिला दिया जाता था.

अभियोजकों का कहना है कि सरकार में शामिल पार्टियां पीपी और राष्ट्रपति मिशेल टेमेर की पार्टी पीएमडीबी को पैसे दिए गए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)