पाक-अफ़ग़ानिस्तान की अनबन मिटाने की कोशिश होगी सफल?

  • 19 मार्च 2017
पाक अफ़ग़ान सीमा इमेज कॉपीरइट Reuters

वैसे तो अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान भौगोलिक तौर पर दो अलग-अलग इकाइयां हैं लेकिन ऐतिहासिक और सांस्कृतिक लिहाज़ से दोनों इस तरह से जुड़े हुए हैं कि उन्हें अलग तौर पर देखना नामुमकिन नहीं तो मुश्किल ज़रूर है.

आजकल दोनों देशों के संबंध तनाव का शिकार हैं और इनमें बेहतरी की फ़िलहाल कोई गुंजाइश नज़र नहीं आ रही.

पाकिस्तान ने पिछले दिनों सिंध में लाल शाहबाज़ कलंदर के मज़ार पर हमले के बाद से अफ़ग़ानिस्तान के साथ अपनी करीब 1,100 किलोमीटर लंबी सरहद को बंद कर रखा है.

इसमें हाल में सिर्फ दो दिनों के लिए ही नरमी देखने में आई थी जब पाकिस्तान में फंसे हुए अफ़ग़ान शहरियों को वापस जाने की इजाज़त दी गई थी.

पाकिस्तान-अफ़ग़ानिस्तान सरहद दो दिन के लिए खुली

अफगानिस्तान-पाकिस्तान का झगड़ा क्या है

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तानी हुक़्मरान का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान पाकिस्तान के साथ अपनी सरहद की वाकई कड़ी निगरानी नहीं कर रहा और भारत समर्थक कट्टरपंथी गुटों को पनाह दे रहा है.

इससे पहले अफ़ग़ानिस्तान पाकिस्तान पर इसी तरह के आरोप लगाता रहा है. यही वजह है कि जब पाकिस्तानी हुक़्मरानों ने पिछले दिनों 76 संदिग्ध चरमपंथियों की फ़ेहरिस्त अफ़ग़ानिस्तान की सरकार के हवाले की थी तो उन्होंने इससे भी लंबी सूची पाकिस्तान को थमा दी थी.

इसी के मद्देनज़र पिछले दिनों दोनों मुल्कों के ताल्लुकात को सामान्य करने के लिए लंदन में दोनों देशों के प्रतिनिधियों के बीच बातचीत हुई जिसमें पाकिस्तान की तरफ़ से प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अज़ीज़ और अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हनीफ़ अत्मार ने शिरकत की.

'पाकिस्तान ने मारे 100 से ज़्यादा चरमपंथी'

'दुश्मन भारत को दे दी अफ़ग़ानों ने सरज़मीन'

इमेज कॉपीरइट AFP

मेज़बान ब्रिटेन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सर मार्क लायल ग्रान्ट ने अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता की.

सर मार्क लायल ग्रान्ट पाकिस्तान में ब्रिटेन के हाई कमिश्नर भी रह चुके हैं और उन्हें पाकिस्तान के सियासी और सरकारी हलकों में काफ़ी सम्मान की नज़रों से देखा जाता है.

ये वही सर मार्क लायल ग्रान्ट हैं जिनके पुरखों के नाम पर पाकिस्तान के लायलपुर शहर का नाम रखा गया था. वर्तमान में इस शहर को फ़ैसलाबाद कहा जाता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लंदन में हुई बातचीत में कोई फ़ौरी नतीजा तो नहीं आया लेकिन पाकिस्तान में अफ़ग़ानिस्तान के राजदूत उमर ज़ाखिलवाल ने कहा कि बातचीत सकारात्मक थी और इससे रिश्तों में आए तनाव को सामान्य करने की दिशा में मदद मिलेगी.

पाकिस्तान के अधिकारियों ने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के बीच हुई बातचीत हौसला बढ़ाने वाली थी और इससे दोनों देशों के प्रतिनिधियों को आमने-सामने बैठकर एक दूसरे के पक्ष को सुनने और समझने का मौका मिला है.

इस पहल की कामयाबी या नाकामी के बारे में अभी कुछ भी कहना जल्दबाज़ी होगी.

लेकिन बातचीत के दौरान आगे के लिए जिस मैकेनिज़्म पर दोनों देशों में सहमति नज़र आई उसकी गंभीरता का अंदाज़ा इस बात से हो पाएगा कि वो किस हद तक तनाव को कम करने और बातचीत को आगे बढ़ाने में कारगर साबित होता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

आजकल पाकिस्तान अफ़ग़ानिस्तान के साथ होने वाले हर मामले को भारत की भूमिका से जोड़कर देखता है और इसी को पाकिस्तान में चरमपंथी हिंसा की ताज़ा लहर के लिए ज़िम्मेदार मानता है.

पाकिस्तान ने 'भारत की दखलंदाजी' के ख़िलाफ़ सौंपे 'सबूत'

ऐसी सूरत में अफ़ग़ानिस्तान और पाकिस्तान के अलावा भारत को भी बातचीत में शामिल करने की ज़रूरत महसूस होती है.

पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान और भारत के इस त्रिकोणीय संवाद की ग़ैरमौजूदगी में पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान के बीच की कड़वाहट को कम करना आसान नहीं होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे