'भारतीयों से ज़्यादा ख़ुश हैं पाकिस्तानी'

  • 20 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट AFP

संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी ने देशों की सूची जारी कर बताया कि कहां के नागरिक सबसे ज़्यादा खुश हैं. इस सूची में भारत का स्थान पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल और कुछ अफ़्रीकी देशों से भी नीचे है.

संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी की इस साल जारी हुई दि वर्ल्ड हैप्पिनेस रिपोर्ट के मुताबिक़, इस सूची में नार्वे का पहला स्थान है.

इस मामले में नार्वे अपने पड़ोसी देश डेनमार्क को पछाड़कर नंबर वन पर पहुंचा.

दक्षिण एशिया देशों में भारत की स्थिति अपने पड़ोसी मुल्कों से ख़राब है.

सूची में भारत 122वें स्थान पर है जबकि पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल और भूटान क्रमशः 80वें, 110वें, 99वें और 97वें पर हैं.

इस रिपोर्ट में वस्तुगत हालात का आकलन किया जाता है कि किसी देश के लोग कितने खुश हैं और क्यों.

नॉर्वे, डेनमार्क, आइसलैंड, स्विट्ज़रलैंड और फ़िनलैंड ने शीर्ष पांच में जगह बनाई है जबकि सेंट्रल अफ़्रीकी रिपब्लिक सबसे अंतिम पायदान पर है.

पश्चिमी यूरोप और उत्तरी अमरीका इस सूची में ऊपर हैं. अमरीका 14वें स्थान पर जबकि ब्रिटेन 19वें स्थान पर है.

हिंसाग्रस्त देशों को इस सूची में सबसे निचले पायदान पर जगह मिली है. 155 देशों में सीरिया 152वें स्थान पर, यमन और सूडान क्रमशः 146वें और 147वें स्थान पर हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस साल की रिपोर्ट में एक अध्याय अमरीका पर है जिसमें इस बात का विश्लेषण किया गया है कि आर्थिक हालात लगातार सुधरने के बावजूद यहां क्यों खुशी का स्तर गिर रहा है.

दि वर्ल्ड हैप्पिनेस रिपोर्ट को 20 मार्च को मनाये जाने वाले संयुक्त राष्ट्र के अंतरराष्ट्रीय हैप्पिनेस डे के अवसर पर जारी किया गया है.

इसके तहत हर साल 150 से अधिक देशों में, हर देश के क़रीब 1,000 लोगों से कुछ साधारण और वस्तुगत सवाल पूछे जाते हैं.

Image caption स्रोत - दि वर्ल्ड हैप्पिनेस रिपोर्ट

उदाहरण के लिए, इसमें पूछा जाता है कि, 'मान लीजिए दस डंडों वाली सीढ़ी है. इस में सबसे ऊपर वाला डंडा सबसे बढ़िया ज़िंदगी और सबसे नीचे वाला डंडा सबसे बुरे हालात को दिखाता है. आप इस समय किस डंडे पर खुद को महसूस कहते हैं?'

इसके अलावा प्रति व्यक्ति जीडीपी, सामाजिक कल्याण, औसत आयु, चुनने का अधिकार, उदारता और भ्रष्टाचार जैसे कारकों को भी सूची के निर्धारण में शामिल किया जाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे