ट्रंप की चुनाव कैंपेन और कथित रूसी दख़ल की जांच हो रही है- एफ़बीआई

  • 20 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट AP
Image caption एफ़बीआई निदेशक जेम्स कूमी

एफ़बीआई निदेशक जेम्स कूमी ने पहली बार इस बात की पुष्टि की है कि एफ़बीआई डोनल्ड ट्रंप के चुनाव प्रचार और रूस के बीच कथित संबंधों की जांच कर रही है.

सोमवार को एफ़बीआई निदेशक कूमी और एनएसए प्रमुख एडमिरल माइक रोजर्स अमरीकी संसद यानी कांग्रेस की इंटेलिजेंस समिति के सामने बयान दे रहे हैं.

कूमी ने कहा कि बारीकी से पड़ताल करने के बावजूद न तो एफ़बीआई और न ही यूएस जस्टिस डिपार्टमेंट को ट्रंप के उस दावे में कोई तथ्य मिला, जिसमें उन्होंने कहा था कि पिछले साल चुनावों के दौरान ओबामा प्रशासन ने उनके फ़ोन रिकॉर्ड किये थे.

उन्होंने कहा कि एजेंसी ट्रंप के प्रचार अभियान में शामिल रहे लोगों का रूसी सरकार के साथ संभावित संबंधों की जांच कर रही है कि क्या दोनों के बीच किसी प्रकार का कोई तालमेल था या नहीं.

पुतिन अमरीकी चुनाव हैकिंग में सीधे शामिल: व्हाईट हाउस

हिलेरी ने हार के लिए रूस की ओर से की गई 'हैकिंग' को ठहराया ज़िम्मेदार

अमरीकी चुनाव: 'रूसी हैकिंग' की समीक्षा होगी

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption राष्ट्रपति ट्रंप और रूसी सरकार पहले ही इन आरोपों को ख़ारिज कर चुके हैं

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने इस कार्यवाही को 'विच हंट' (जानबूझकर परेशान करना) कहा है और उनकी कैंपेन और कथित रूसी दख़ल के आरोपों को ख़ारिज किया है.

रूस शुरू से ही कहता रहा है कि अमरीकी राष्ट्रपति चुनावों से उसका कोई लेना देना नहीं था.

जनवरी में अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसियों ने कहा था क्रेमलिन समर्थिक हैकर्स ने वरिष्ठ डेमोक्रेट नेताओं के ईमेल हैक किये और हिलेरी क्लिंटन को हराने में ट्रंप की मदद करने के लिए उन्हें सार्वजनिक किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)