क्या हाई हील का होता है मर्दों पर असर?

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ऊंची एड़ी के जूतों यानी हाई हील का अविष्कार घुड़सवारी के दौरान रकाब से फिसलने से बचने के लिए किया गया था.

लेकिन इनदिनों ये हाई हील्स ब्रितानी संसद में चर्चा का विषय बनी हुई हैं कि कार्यस्थल पर ऊंची एड़ी पहनना ज़रूरी होना चाहिए या नहीं.

किशोर अवस्था में मुझे लगता था कि ऊंची एड़ी वयस्क होने का प्रतीक होती हैं. ग्लैमरस एक्ट्रेस , पॉप स्टार और सुपरमॉडल हमेशा ही ऊंची एड़ी के जूते पहने रहते हैं. मुझे लगता था कि जब आप हील पहनती हैं तो आप एक लड़की नहीं बल्कि असली औरत बन जाती हैं.

हील न पहनने पर रिसेप्शनिस्ट को वापस भेजा

अगर आप भी टाइट जींस पहनते हैं तो...

लड़कों के नज़रिए से देखूं तो ग़लत हूं?

अब जब मुझे लगता है कि मैं बड़ी हो चुकी हूं और मैंने अपनी समझ के मुताबिक़ ऊंची एड़ी के जूते पहनना बंद कर दिए. मैंने बेवकूफी भरे फैशन नियमों का पालन बंद कर दिया है और सोचने लगी हूँ कि ये सब किसके लिए कर रही थी.

ख़ैर इससे क्या फर्क पड़ता है. सिर्फ ऊंची एड़ी के जूते पहनने भर से आख़िर कोई मेरे साथ अलग तरह का बर्ताव क्यों करेगा?

हाई हील के असर का टेस्ट

मैंने सोचा कि क्यों न अपने नए बीबीसी शो 'पुटिंग इट आउट देयर' में इस बात को परखा जाए कि क्या जब मैं हाई हील पहनती हूं तो क्या पुरूषों का व्यवहार मेरे लिए बदल जाता है?

ये प्रयोग मूल रूप से फ्रेंच समाजशास्त्री निकोलस ग्यूगेन की तरफ से किया गया.

करना ये था कि मुझे हाथ में एक पेपर लेकर रिसर्चर के तौर पर सड़क पर घूमना था. पहले बिना एड़ी वाले जूतों में फिर पांच इंच की ऊंची एड़ी के जूतों में, जिसमें मुंह के बल गिरने का ख़तरा था.

पहले मैं सड़क पर अपने बोरिंग से फ्लैट यानी बिना हील वाले जूते पहनकर निकली और वॉशिग मशीन पर एक सर्वे करने लगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मर्दों के बर्ताव में फर्क

बहुत ही कम पुरूष मेरे उबाऊ सवालों के जवाब देने के इच्छुक नज़र आए. तो इससे मुझे कोई हैरानी नहीं हुई.

अब मुझे ऊंची एड़ी के जूते पहन कर ठीक इसी तरह सड़क पर उतरना था.

कार्नेबी स्ट्रीट पर मेरे दोबारा एंट्री के तीन सेकंड के अंदर ही मुझे एक लड़का मिला जिसने मेरे हर सवाल का जवाब देने में दिलचस्पी दिखाई.

पुरूष बात करने के लिए लाइन में लग रहे थे, मुझे इस फर्क पर यक़ीन नहीं हुआ. यहां तक कि मेरे साथ टीम के लोग भी हैरानी से हंस रहे थे कि कैसे एक के बाद एक पुरूष मुझसे बात करने आ रहे थे. और ये सब सिर्फ मेरे जूते बदलने के बाद हुआ.

अध्ययनों से पता चला है कि ऊंची एड़ी हमारे स्त्रीत्व लक्षणों को ज़्यादा स्पष्ट कर देती है. जैसे छोटे-छोटे क़दम लेना और कमर को लहराना.

इमेज कॉपीरइट Alamy

हाई हील का असर दिमाग़ पर

जो पुरुष मेरे पास आए उन्होंने कहा कि उन्हें नहीं पता था कि मैंने हील्स पहनी हैं. इसके बाजजूद सोचा यही जाता है कि मैं जितनी सेक्सी लगूँगी, उतने ही मर्द मुझसे बात करने आएँगे.

लेकिन शायद ये ऊंची एड़ी पर मिलने वाली प्रतिक्रिया न हो. हो सकता कि ऊँची एड़ी पहनने के बाद मेरे हावभाव में बदलाव की वजह से वो आए हों.

जब मैं हील्स पहनती हूं तो मेरे दिमाग़ पर विक्टोरिया सीक्रेट की मॉडल की छवि का जादू सा चलने लगता है जो सेक्स अपील से भरी है.

सांस्कृतिक परिवेश की वजह से मैं ऊंची एड़ी के जूतों को ग्लैमर, कामुकता और स्त्रीत्व से जोड़कर देखती आई हूँ. मैं जब ऊंची एड़ी पहनती हूं तो ख़ुद को ज़्यादा सेक्सी और आत्मविश्वास से भरा हुआ महसूस करती हूं.

हो सकता है कि पुरुष इसी वजह से प्रतिक्रिया देते हैं.

निष्कर्ष: ऊंची एड़ी को फेंकों और अपने दिमाग़ को इस तरह केन्द्रित करो कि ये यक़ीन हो जाए मैं बिना एड़ी वाले यानी फ्लैट जूतों में भी सेक्सी लगती हूं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे