जिसे नामांकित किया उसी ने कहा क़ानून से परे नहीं ट्रंप

  • 22 मार्च 2017
नीयो गोरसच इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सीनेट में गोरसच से पूछे गए तीखे सवाल

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने सुप्रीम कोर्ट में जिस नए जज का नाम आगे बढ़ाया उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि कोई भी क़ानून से ऊपर नहीं है.

नीयो गोरसच ने कहा कि यहां तक कि राष्ट्रपति भी क़ानून से ऊपर नहीं हैं, जिन्होंने मुझे इस पद के लिए मनोनीत किया है.

जब सीनेट में गोरसच के नाम पर मुहर लगाने की कार्यवाही चल रही थी, उस दौरान उन्होंने कहा कि उनसे किसी ने कोई वादा नहीं कराया है कि वह कैसे काम करेंगे.

ट्रंप के मनोनीत जज ने की उनकी आलोचना

गोरसच ने दो टूक कहा कि अगर ट्रंप उनपर ऐतिहासिक 'रोव वी वेड' गर्भपात क़ानून बदलने के लिए दबाव डाला गया होता तो वह पद छोड़ देते.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

गोरसच ने यह भी कहा कि ट्रंप का फेडरल जजों पर हमला निराशाजनक है. विवादित ट्रैवेल प्रतिबंध को स्थगित करने पर फ़रवरी में डोनल्ड ट्रंप ने एक जज को 'तथाकथित जज' कहा था.

डोनल्ड ट्रंप के दिमाग़ में आख़िर क्या है?

गोरसच ने सीनेटरों से निजी तौर पर बताया कि यदि अमरीकी ज़मीन पर किसी भी तरह का आतंकी हमला होता है तो यह नीतियों ग़लती होगी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उन्होंने कहा, ''यदि कोई भी फेडरल जजों की ईमानदारी, निष्ठा और इरादों पर हमला बोलता है तो यह हताश करने वाला है. यह सच में नीचा दिखाने की कोशिश है, क्योंकि मैं सच जानता हूं.''

ट्रंप के बैन से किसका चैन गया, किसकी उड़ी नींद

उनसे पूछा गया कि क्या यह बात राष्ट्रपति के साथ भी लागू होती है तो उन्होंने कहा कि चाहे कोई भी रहे. व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने बाद में ट्वीट किया कि गोरसच ने चीज़ों को संपूर्णता में रखा है और उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया है.

सीनेट में उनसे जो सवाल उनसे पूछे गए उसमें कोलारैडो के इस जज ने शायद ही कोई ग़लती की.

इमेज कॉपीरइट AP

ऐसा तब जब गोरसच से डेमोक्रेट सांसदों ने कई विवादित मुद्दों पर सवाल पूछे. उन्होंने लगातार कहा कि किसी भी केस को किस तरीके से देखेंगे उस पर कुछ कहना ग़लत होगा. गोरसच ने इस दौरान शुरू से अंत तक स्वतंत्र न्यायपालिका की बात दोहराई.

गोरसच को 13 महीने पहले जस्टिस एंथोनेन स्कालिया की मौत के बाद खाली हुई सीट पर मनोनीत किया गया है. नियुक्ति से पहले उन्हें सीनेट न्यायिक समिति के कड़े सवालों का सामना करना पड़ा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे