पाकिस्तान में जनगणना, सिख नाराज़

  • 23 मार्च 2017
पाकिस्तानी सिख, पेशावर, फाइल फोटो इमेज कॉपीरइट A Majeed/AFP/Getty Images

पाकिस्तान में दो दशकों के बाद हो रही जनगणना को लेकर सिख समुदाय के लोग नाराज हैं. वे इस बात को लेकर निराश हैं कि उन्हें जनगणना में दरकिनार कर दिया गया है.

उनका कहना है कि जनगणना के रजिस्टर में अलग से सिखों के लिए कॉलम नहीं बनाया गया जबकि दूसरे मज़हबों को लिस्ट में जगह दी गई है.

पेशावर में सिख इस मुद्दे पर शनिवार से ही विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

एक सिख प्रदर्शनकारी ने कहा,"हमारे समुदाय को छोड़ दिया गया है. पाकिस्तान में सिख धर्म को मानने वाले लोग रहते हैं और लोग ये बात जानते हैं. हमें ये बात बुरी लगी है. हमने कहा है कि हमारे पास पेशावर हाई कोर्ट का रास्ता बचा है. हमने कोर्ट में याचिका दायर की है."

पाकिस्तान में दो दशकों बाद शुरू हुई जनगणना

पाकिस्तान में 18 साल बाद होगी जनगणना

इमेज कॉपीरइट AAMIR QURESHI/AFP/Getty Images

पाकिस्तान में फिलहाल पहले चरण की जनगणना हो रही है. कहा जा रहा है कि सिखो ने ये मुद्दा देर से उठाया.

एक नौजवान सिख प्रदर्शनकारी का इसपर कहना था, "1981 में जब मतगणना हुई थी तो हमारे बुजुर्गों को भी इसके बारे में जानकारी नहीं थी. इस बार ये होना चाहिए था कि जनगणना का फॉर्म लोगों के सामने रखा जाता ताकि हमें इसके बारे में पता चलता. हमें दो-तीन दिन पहले ही इसके बारे में पता चला और हमने काम शुरू कर दिया."

पेशावर हाई कोर्ट ने याचिका दायर किए जाने के अगले दिन अपने फैसले में कहा दूसरे चरण की जनगणना में सिखों को शामिल किया जाए.

पेशावर हाई कोर्ट के वकील और सिख कार्यकर्ता राजेश कहते हैं, "ये एक ऐतिहासिक फैसला है. पेशावर हाई कोर्ट ने कहा है कि जनगणना में अभी जो फेज़ चल रहा है, उसे रोका न जाए. जब इसका दूसरा चरण शुरू हो तो इसमें सिखों का अलग से कॉलम बनाया जाए."

इमेज कॉपीरइट ASIF HASSAN/AFP/Getty Images

जनगणना में छोड़े जाने की शिकायत केवल सिखों की ही नहीं है.

पाकिस्तान के अलग-अलग हिस्सों में अन्य अल्पसंख्यक समुदाय के लोग भी नजरअंदाज किए जाने की शिकायत कर रहे हैं.

आरोप लगाए जा रहे हैं कि सरकार ने इसके लिए पहले ग्राउंड वर्क नहीं किया था.

राजेश बताते हैं कि जनगणना विभाग के लोग भी इससे बेखबर थे कि जनगणना फॉर्म में सिखों का जिक्र है या नहीं.

पेशावर के जनगणना में दफ्तर में शुरू में उन्हें बताया गया कि इसमें सिखों का कॉलम है लेकिन जब फॉर्म खोल कर देखा गया तो ये नदारद था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे