इराक़ के मूसल में अमरीकी हमले में 200 के मारे जाने की आशंका

मूसल इमेज कॉपीरइट AP

संयुक्त राष्ट्र संघ ने इराक़ी शहर मूसल में व्यापक पैमाने पर नागरिकों के हताहत होने वाली रिपोर्ट पर चिंता ज़ाहिर की है. इराक़ में एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि वह इस पैमाने पर हो रही मौतों से बिल्कुल हैरान हैं.

ऐसी रिपोर्ट आई है कि अमरीकी सहयोगियों के नेतृत्व वाले हवाई हमले में कम से कम 200 लोग मारे गए हैं. अमरीकी युद्धक विमान इराक़ी आर्मी के साथ काम कर रहे हैं. इराक़ी आर्मी मूसल को इस्लामिक स्टेट के कब्ज़े से वापस लेने में लगी है.

हालांकि अमरीकी मीडिया का कहना है कि इस मामले की जांच की जा रही है.

मूसल के एयरपोर्ट पर इराक़ी सेना का कब्ज़ा

मूसल: बदले की कार्रवाई के आरोप, बग़दादी का ऑडियो जारी

इमेज कॉपीरइट Reuters

अभी साफ़ नहीं है कि जिन मौतों के आरोप लगाए जा रहे हैं वे कब हुए. हालांकि पश्चिमी मूसल में मौजूद रिपोर्टरों का कहना है कि उन्होंने एक इमारत से 50 शवों को निकालते हुए देखा है. यहां मार्च महीने की शुरुआत में हवाई हमले हुए थे.

इराक़ी सुरक्षा बलों की तरफ़ से मूसल को अपने कब्ज़े में लेने के लिए एक महीने से आक्रामक हमले किए जा रहे हैं. मूसल में आईएस की मजबूत पकड़ है. यह शहर 2014 से ही इस्लामिक स्टेट के कब्ज़े में है.

न्यूयॉर्क टाइम्स ने अमरीकी सेना के अधिकारियों के हवाले से बताया है कि गठबंधन सेना 17 से 23 मार्च के बीच हुए हमले में आम लोगों के मारे जाने की रिपोर्ट की जांच कर रही है.

Image caption यह शहर किसी मलबे में तब्दील हो गया है

संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि मूसल के पुराने शहर में चार लाख आम लोग फंसे हुए हैं. एक लाख 80 हज़ार से ज़्यादा आम लोग शहर छोड़ चुके हैं और आशंका है कि आने वाले हफ़्तों में तीन लाख 20 हज़ार और लोग शहर के बाहर जा सकते हैं.

मूसल से बाहर गए लोगों का कहना है कि विद्रोही आम लोगों को ढाल की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं. वो उनके घरों में छुपे हुए हैं और युवाओं को अपनी ओर से संघर्ष में शामिल होने के लिए मजबूर कर रहे हैं. अमरीकी अधिकारियों का मानना है कि मूसल में इस्लामिक स्टेट के करीब दो हज़ार लड़ाके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे